BIG BREAKING: लॉक डाउन के बीच शिवराज सरकार के मंत्रियों ने ली शपथ, कैबिनेट में सिंधिया के दो मंत्री भी शामिल

795

आज मध्य प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान के कैबिनेट का विस्तार लगभग एक महीने बाद हो गया हैं और ये विस्तार हुआ भी उस वक़्त जब कोरो’ना क्राइसिस मध्य प्रदेश के अंदर चरम पर हैं. शिवराज को कैबिनेट विस्तार के लिए दिल्ली से हरी झंडी मिलने के बाद शिवराज सिंह ने अपनी कैबिनेट का विस्तार कर दिया हैं.

शिवराज ने अपनी टीम में इस बार 5 नए चेहरे को शामिल किया हैं. कैबिनेट विस्तार से पहले शिवराज ने गवर्नर लालजी टंडन से बात की थी. उसके बाद उन्होंने इस कार्यक्रम को आगे बढ़ाया और राजभवन में शपथग्रहण की तैयारी शुरू हो गई थी. सबसे पहले शपथ ली है नत्रोत्तम मिश्र ने जिनकी भूमिका मध्य प्रदेश में बीजेपी के अंदर काफी महत्त्वपूर्ण मानी जाती हैं.

शपथ लेने में अगला नंबर था सिंधिया खेमे के तुलसी सिलावट का. तुलसी सिलावट कमलनाथ की सरकार में भी स्वास्थ्य मंत्री रहे हैं. तुलसी सिंधिया के काफी खास आदमी में माने जाते हैं. तुलसी के बाद बीजेपी विधायक कमल पटेल ने मंत्री पद की शपथ ली है. कमल पटेल हरदा से विधायक हैं. ये पूर्व सीएम उमा भारती के करीबी हैं. इसके साथ ही सिंधिया कोटे से गोविंद सिंह राजपूत ने भी मंत्री पद की शपथ ली है. गोविंद सिंह राजपूत कमलनाथ की सरकार में परिवहन मंत्री रहे हैं. मानपुर से 5 बार विधायक रहीं मीना सिंह ने भी मंत्री पद की शपथ ली हैं. बीजेपी ने जो टॉस्क फोर्स बनाई थी, उसमें भी मीना सिंह शामिल थी. पार्टी की आदिवासी चेहरा हैं. मीना सिंह को लेकर ये कहा जाता है कि वो प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा की करीबी हैं.

इस बार मामा शिवराज कैबिनेट में जातिगत समीकरणों को साधने की पूरी कोशिश की गई है. 5 मंत्री 5 समाज से आते हैं. इसके साथ ही हर खेमे के लोगों को भी तवज्जो दी गई. कमल पटेल कुर्मी समुदाय से आते हैं, नरोत्तम मिश्रा ब्राह्मण, मीना सिंह आदिवासियों का प्रतिनिधित्व करती हैं, साथ ही महिला भी हैं. राजपूत समाज से गोविंद सिंह राजपूत को जगह मिली हैं और तुलसी सिलावट अनुसूचित जाति वर्ग से आते हैं.

शिवराज ने इस बार सबको ध्यान में रखते हुए अपनी कैबिनेट विस्तार किया हैं. जिसे सभी समाज को साधा जा सके और उनको सरकार की तरफ से सकरी योंओं का भी लाब दिया जा सके.