नसरुद्दीन शाह और एमनेस्टी इंटरनेशनल की असलियत क्या जानते है आप ?

422

देश मे नसीर साहब आजकल फुल फॉर्म में है और शायद अपनी फुल फॉर्म का वो पोलिटिकल फायदा लेने की पूरी फिराक में भी जुटे है। ख़ैर छोड़िये ना हमे इससे क्या ।देश मे डर लगने की बात कहने वाले नसरूदीन शाह को बढ़िया टीआरपी मिली ,तो उनकी जुबां एक बार फिर से खुल गई। मानवधिकारो के लिए काम करने वाली संस्था एमनेस्टी इंटरनेशनल की हाल ही में सामने आई 2 min 14 sec की वीडियो में नसरूदीन शाह ने केन्द्र सरकार को घेरते हुए लोगो से संविधान के मूल्यों के लिए खड़े होने की अपील कर रहे है। उनका कहना है, कि देश मे नफरत और जुल्म का बेखौफ नाच चल रहा है और जो इसके लिए आवाज उठा रहे है, उनकी आवाज़ को दबा दिया जा रहा है।

Source-
DNA India

क्या है एमेनेस्टी इंटरनेशनल
एमनेस्टी नाम की जिस संस्था ने ये वीडियो चलाया है उसका इतिहास क्या है। दरअसल ये संस्था मानवाधिकारो से जुड़े मुद्दों के पक्ष में खड़े होने का दावा करती है। पर 2014 में मोदी सरकार जब आई ,तो फॉरेन कॉन्ट्रिब्यूशन रेगुलेशन एक्ट के नियमो में फिट ना बैठने के चलते कई एनजीओ को बन्द किया था ,जिनमे एमेन्सटी भी शामिल थी जिसके बाद से एमेन्सटी का रुख सरकार के खिलाफ हो गया। लोगो के हितों की लड़ाई लड़ने का दावा करने वाली इस संस्था के ऊपर बंगलुरू में कश्मीर की आजादी की मांग करने और सेना के खिलाफ नारे लगाने के चलते इस देशद्रोह का मुकदमा भी दर्ज हो चुका है। संस्था के ऊपर ईडी का छापा भी पड़ चुका है और दिलचस्प बात ये है कि भारत मे इनके एम्बेसेडर भी नसरूदीन शाह साहब ही है।

Source
Amnesty International Australia

नसीर जी ने कहा कि जो भी अन्याय के खिलाफ खड़ा होता है उसे चुप कराने का प्रयास किया जाता है और जो नही मानता तो उसे जेल में डाल दिया जाता है। जिनकी आप हिमायत कर रहे है वो लोग देश के पीएम को मारने की साजिश रचते है। वो नक्सली देश के जवानों तक को नही बख्शते, पर आप ना जाने किस माटी के बने हो नसीर साहब जो ऐसे नक्सलियों को मासूम बताकर उनकी पैरवी कर रहे है।और क्या कहा आपने की अन्याय के खिलाफ बोलने वाले पर छापा डलवा दिया जाता है ,अगर इंसान सही होता है न तो उसको किसी छापे का डर नही रहता। पड़ते रहे हजार तरह के छापे, ख़ैर चलो आपको बात को मान भी लेते है कि सरकार छापे डलवा कर आपकी आवाज को दबा रही है पर जनाब देश मे कानून नाम की भी कोई चीज होती है ना ??? अगर आप इसका इस्तेमाल नही कर रहे है तो या तो आप खुद गलत है या देश की न्याय व्यवस्था पर आपको विश्वास नही है। आपने कहा कि देश मे कम्युनल वायलेंस हो रहा जिससे लोगो को यहां डर लग रहा है। लेकिन आदरणीय नसीर सर जरा फैक्ट पर बात किया कीजिए क्योकि जब तक आप फैक्ट नही देंगे तब तक आपकी बेतुकी बातो को सुनने में बिल्कुल मजा नही आएगा।

एमएचआरसी की माने तो 2009 से 2013 तक देश मे कम्युनल वायलेंस के चलते हर साल 106 मौते हो रही थी जबकि 2014 में नरेंद्र मोदी की सरकार आने के बाद से मौतों का आंकड़ा कम हुआ, और प्रति वर्ष 97 मौत होने लगी। अब आप सब खुद अंदाजा लगा लीजिए ,कि किसके राज में कम है ..पर फिर भी नसीर साहब को डर लग रहा है अब ये डर।2013 में मोदी विरोधी (फेंकू) नाम की वेबसाइट को फंडिंग करने वाले नसीर साहब का कहना है कि देश मे लोगो की आवाज दबाई जा रही है ,पत्रकारों को बोलने नही दिया जा रहा । लेकिन बॉस हम आपकी बिना मतलब की बात पर यकीन करने का हमारा थोड़ा सा भी मन नही है

MHRC DATA

2013 में फ्रीडम ऑफ प्रेस इंडेक्स यानी प्रेस को मिलने वाली स्वतंत्रता का आंकड़ा देखे तो 2013 में भारत की रैंकिंग 140 थी,2014 मे भी ये रैंकिंग 140 ही रहा लेकिन 2018 आते आते ये रैंकिंग दो पायदान सुधरकर 138 तक आ गई। अब आप खुद सोच लीजिए की प्रेस की आवाज दबाई जा रही या सुधरी है। खैर नसीर जी जैसे फेंकू लोग मतलब फेंकू वेबसाइट चलाने वाले लोग ,तो अपनी खुन्नस निकालने के लिए ऐसा बोलेंगे ही।

हालांकि जिस एमिनेस्टी इंडिया इंटरनैशनल के मंच पर चढ़कर देश को लूटा पिटा दिखा रहे है उसकी भी एक हरकत आपको बता ही देते है। आप सबको जम्मू का कठुवा कांड तो याद ही होगा अब इस कांड के बाद जब वहां कानून बना की अगर कम उम्र लड़की के साथ रेप होता है तो रेप करने वाले को फांसी दे जाएगी इसके ठीक बाद नसीर साहब की वीडियो बनाने वाली एमेन्सटी ने आर्टिकल छापा और उसमे लिखा की अगर ये कानून बन गया इससे देश के अल्पसंख्यकों को दिक्कत होने लगेगी। अब ये बात इन्होंने क्यो कही इसको लेकर तो नसीर साहब सवाल पूछना शायद भूल गए होंगे ,अरे बॉस हम बखूबी समझ सकते है कि एक छापे की मार क्या होती है, हम बखूबी समझते है कि फंडिंग रोके जाने की पीड़ा क्या होती है। अगर आप अपनी एमेन्सटी का बचाव करने के लिए इतना अनाप शनाप बोल रहे है तो जनाब सुनिये आपकी ये राजनीति लम्बे समय तक नही टिकने वाली। आप और हम जिस देश में रहते है वहां के लोग प्यार और दुश्मनी पूरी शिद्दत से निभाते है। इसलिए अपनी बिना तर्को वाली बातो को बन्द करके अभिनय की दुनिया मे ही खुश रहिए और वही करिये ,जिससे हम सब लोग भी बहुत पसंद करते है ..

देखिये वीडियो

https://youtu.be/Jj08_-AKsOc