धारा 370 पर लोकसभा में कांग्रेस नेता को मिला मुह तोड़ जवाब

1324

जम्मू कश्मीर का भूगोल आज पूरी तरह से बदल गया है. आज गृह मंत्री अमित शाह ने जम्मू कश्मीर पुनर्गठन विधेयक सदन के पटल पर पेश किया. जम्मू-कश्मीर के पुनर्गठन बिल पर चर्चा के दौरान अमित शाह ने कुछ ऐसा कहा जिससे पूरा विपक्ष हिल सा गया. अमित शाह ने 370 बिल से जुडी संविधानिक औपचारिकता का ज़िक्र करते वक्त एक बहुत बड़ी बात कही. उन्होंने बोला का ” जब मई जम्मू कश्मीर की बात करता हु तो उसमे POK और अक्साई चीन शामिल हैं” जब कांग्रेस के एक संसद ने इसपर आपत्ति जताई और बोला की वो अग्ग्रेसिवे हो रहे हैं, तो अमित शाह ने कहा “क्या आप POK को भारत का हिस्सा नहीं मानते हो, हम जान दे देंगे इसके लिए.”

“हमारे संविधान में जम्मू कश्मीर की जो सीमाएं तै की हैं और साथ ही जम्मू कश्मीर के संविधान में भी जो सीमाएं तै की गई हैं उसके मुताबिक दोनों अक्साई चीन और Pok भारत का हिस्सा है.”

इसके साथ ही कांग्रेस को एक बार फिर मुह की खानी पड़ी. दरअसल, कांग्रेस संसदीय दल के नेता अधीर रंजन चौधरी ने धारा 370 पर ऐसा सवाल पूछा कि गृहमंत्री अमित शाह ने उनकी खिंचाई कर दी. अमित शाह ने कहा, ‘इस मामले में कांग्रेस को अपना रुख साफ करना चाहिए. कांग्रेस बताए कि क्या कश्मीर को संयुक्त राष्ट्र (यूएन) मॉनिटर करे.’

तभी कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी और अमित शाह के बीच तीखी नोंक-झोक शुरू हो गई. इसके बाद कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने अपनी राय सदन में रखनी शुरू की. उन्होंने कहा कि अब देश असूचित आपातकाल की स्तिथि में है क्यूंकि उनके अज़ीज़ दोस्त उम्र अब्दुला और महबूबा मुफ़्ती नज़रबंद है. केंद्र सरकार ने रातो-रात जम्मू कश्मीर के टुकड़े कर दिए और इसे केंद्र शासित प्रदेश बना दिया.

अधीर रंजन चौधरी के इस बयान पर अमित शाह ने एक करारा जवाब देते हुए कहा कहा कि “सरकार ने कौन सा नियम तोड़ा है?” अधीर रंजन ये बताएं, सरकार उसका जवाब देगी. अमित शाह ने कांग्रेस नेता को चेतावनी देते हुए कहा की इस मुद्दे पर जनरल स्टेटमेंट न दें.

इसके जवाब में अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि आपने अभी कहा कि कश्मीर अंदरूनी मामला है, लेकिन यहां अभी भी संयुक्त राष्ट्र 1948 से मॉनिटरिंग करता आ रहा है.

अमित शाह ने इस पर अधीर रंजन चौधरी को तुरंत टोका. गृह मंत्री ने कहा, “आप ये स्पष्ट कर दें कि ये कांग्रेस का स्टैंड है कि संयुक्त राष्ट्र कश्मीर को मॉनिटर कर सकता है.” इसके बाद सदन में जमकर हंगामा हुआ. अमित शाह ने बार बार कहा कि आप ये स्पष्ट कर दें कि कश्मीर को UN मॉनिटर कर सकता है…आपने अभी कहा है.