एल्गार परिषद केस: 19आरोपियों पर पीएम मोदी की ह’त्या का आरोप, मामला दर्ज

1341

महाराष्ट्र के भीमा कोरेगांव हिं’सा (2018) केस में 19 आरोपियों के नाम सामने आये हैं, जिसमें नरेन्द्र मोदी को जा’न से मा’रने की धमकी दी गई थी. 19 आरोपियों के नाम विशेष गैरकानूनी गतिविधियां प्रतिबन्ध कानून UAPA (Unlawful Activities Prevention Act) कोर्ट को बुधवार को भेजा है. इन आरोपियों के खिलाफ देश में जं’ग छेड़ने, आतं’की गतिविधियों में शामिल होने और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को जा’न से मा’रने के खिलाफ सभी आरो’पियों पर मामला दर्ज किया गया है.

आरोपियों की बात करें तो उसमे मानवाधिकार वकील, अकादमी और लेखक सहित 9 एक्टिविस्ट शामिल हैं. इन सभी आरोपोयों को प्रति’बंधित संगठन सीपीआई (माओ’वादी) से संपर्क में होनी की वजह से गिरिफ्तार किया गया है. इन सबके अलावा वामपंथी विचारधारा वाले सांस्कृतिक संगठन कबीर कला मंच के 5 लोग और 5 माओवा’दियों को भी आरोपी बनाया गया है.

पीएम नरेन्द्र मोदी की ह’त्या की सा’जिश रचने वाले सभी आरोपियों को धारा 121 और 121 A ड्राफ्ट का ज़िक्र करते हुए कहा गया है कि  गिरफ्तार  किये गए 19 आरोपी, “जो प्रतिबंधित आतं’की  संगठन / एसोसिएशन सीपीआई मा’ओवा’दी और उसके फ्रंटल आर्गेनाईजेशन के एक्टिव सदस्य हैं . इसकी सा’ज़िश नेपाल और मणिपुर के सप्लायर  से 4 लाख राउंड के साथ M-4 समेत और भी की हथियारों की खरीद के लिए 8 करोड़ रुपये जुटाया और राजीव गाँधी की तरह रोड शो के दौरान नरेन्द्र मोदी की ह’त्या करने का प्लान बनाया ”.

कोरेगांव-भीमा हिं’सा में भूमिका निभाने वाले लोगो के ऊपर पुलिस ने दावा किया है कि यहाँ दिये गए कथित भड़’काऊ बयानों की पुष्टि की गई है.पुलिस ने 9 एक्टिविस्ट- सुधीर धावले, रोना विल्सन, सुरेन्द्र गाडलिंग, शोमा सेन, महेश रावत, पी वारवरा राव, सुधा, अरुण फरेरा और वर्नन गोंज़ल्वेज़ को 6 जून 2018 में अपने भड़’काऊ भाषण के लिए गिरफ्तार किया गया है.

इन मा’ओ’वादि’यों की एक और सा’ज़िश भी सामने आई, वो भारत के खिलाफ जं’ग छेडना चाहते थे.इनका मकसद यह भी था कि वो सरकार को हटाना चाहते थे जिसकी वजह से उन्होंने लोगो को भड़’काना और हिं’सा भड़’काना और संगठन के लिए पैसे भी इकट्ठा करना शुरू किया और आ’तंकी गतिविधियों के ले लिए माओवादी संगठन बनाया .