बिहार विधानसभा में सोशल मीडिया पर फेक न्यूज़ फैलाना इस बार पड़ेगा महंगा, इस ऐप के जरिये चुनाव आयोग रखेगा नज़र

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में चुनाव आयोग ने बहुत सारी बातों में परिवर्तन किया हैं. फिर चाहे वो चुनाव करने का तरीका हो या फिर सोशल मीडिया पर भ्रा’म’क खबरों को फ़ैलाने की बात की गई हो. अबकी चुनाव आयोग ने इन बातों का पालन न करने पर कड़ी का’र्य’वा’ई करेगा. जिसके संकेत वो पहले भी दे चूका हैं.

बिहार चुनाव में सोशल मीडिया का दु’रु’प’यो’ग करने की बात सोचने वाले सावधान हो जाएँ. अब उनपर ‘सी-विजिल’ एप से नजर रखी जायेगी. अब तक सी-विजिल ऐप का उपयोग आदर्श आ’चा’र सं’हि’ता के उ’ल्लं’घ’न के मामले में किया जाता था. अब इसका अप-टू-डेट वर्जन सोशल मीडिया पर भी नजर रखने का काम करेगा. बताया जा रहा है कि इस ऐप के माध्यम से नि’ष्प’क्ष व शांतिपूर्ण ढं’ग से बिहार विधानसभा का चुनाव संपन्न कराया जाएगा.

इसके जरिये सोशल मीडिया पर आ’प’त्तिज’न’क व भ’ड़’का’ऊ पोस्ट व वीडियो पर रोक लगायी जा सकेगी. यह ऐप नि’ष्प’क्ष व शांतिपूर्ण ढं’ग से बिहार विधानसभा का चुनाव संपन्न कराने में मददगार होगा. जिला प्रशासन इस ऐप के जरिये आ’द’र्श आ’चा’र सं’हि’ता के उ’ल्लं’घ’न, आ’प’त्ति’ज’न’क पोस्ट व वीडियो डालने वालों पर कार्र’वाई कर सकेगा. इस ऐप की मदद से अधिकारी आसानी से मॉ’नीट’रिंग कर सकेंगे.

इस ऐप की उपयोग कौन कर सकता है उसके बारे में भी बताया गया है. इस ऐप का उपयोग 18 वर्ष के ऊपर के लोग कर सकते हैं. अगर इस ऐप की बात करें तो पिछले लोकसभा चुनाव में इस ऐप के जरिये आदर्श आ’चा’र स’हिं’ता के उ’ल्लं’घ’न करने वाले पर नज़र राखी गई थी और ये काफी उपयोगी साबित हुआ था. इसी को देखते हुए अबकी चुनाव आयोग ने इसका प्रयोग बिहार विधानसभा चुनाव में करने का ऐलान किया हैं.

Related Articles