बंगाल में हो रही चुनावी रैली में कोरोना के नियमों का पालन न होने के चलते चुनाव आयोग ने उठाया बड़ा कदम, जानिए

देश में कोरोना की दूसरी लहर वापस आ गयी है जोकि पहले से भी ज्यादा ख’तरनाक है. पिछले साल की तुलना में इस बार मरीजों की संख्या बहुत तेजी से बढ़ती जा रही है. कोरोना के बढ़ते संक्रमण ने हर किसी को चिंता में डाल दिया है. केंद्र सरकार और राज्य सरकार इस बात पर लगातार विचार कर रहे हैं कि कैसे इसे फैलने से रोका जा सके. वहीँ कई राज्यों में विधानसभा चुनाव भी चल रहे हैं.

जानकारी के लिए बता दें बंगाल में चुनाव प्रचार के दौरान नेताओं की रैली में जमकर भी’ड़ उ’मड़ रही है. वहीँ दूसरी ओर कोरोना के लगातार बढ़ते मरीजों ने अब चुनाव आयोग को भी सोचने को मजबूर कर दिया है. बंगाल में चुनाव के दौरान कोरोना गाइड’लाइंस का जमकर उ’लंघन हो रहा है, जिसको लेकर चुनाव आयोग ए’क्शन में आ गया है और बड़ा ऐलान किया है.

दरअसल चुनाव आयोग ने 16 अप्रैल को एक सर्वदलीय बैठक बुलाई है. जिसमें सभी दलों के साथ आयोग कोरोना गा’इडलाइंस के पालन को लेकर बात करेगा. इसके पीछे की वजह ये है कि किसी भी पार्टी के प्रचार के दौरान कोरोना गाइडलाइंस का पालन नहीं किया जा रहा है जिससे सक्रमण फैलने का ख’तरा लगातार बढ़ता जा रहा है. ऐसे में चुनाव आयोग को इसपर विचार करना पड़ा है.

गौरतलब है कि अभी हाल ही में कलकत्ता हाईकोर्ट ने स’ख्त रुख अख्तियार करते हुए सभी जिलाधिकारियों से राजनीतिक कार्यक्रम में कोरोना के नियमों के पालन की स्थिति पर नजर बनाये रखने के आदेश दिए थे. कोर्ट ने साफ़ कर दिया है कि राज्य में चुनावी कार्यक्रम के दौरान नियमों का स’ख्ती से पालन करवाने की जिम्मेदारी जिलाधिकारी और चुनाव आयोग की ही है. ऐसे में कोरोना की स्थि’ति को जांचने के लिए अगर उन्हें लगे तो वो धा’रा 144 ला’गू भी कर सकते हैं.

Related Articles