ईडी ने जब्त की संपत्ति,गुरुग्राम से कर रहा था आतंकी हाफिज की मदद

282

2008 में हुए मुंबई हमले का मास्टरमाइंड हाफिज सईद इन दिनों पाकिस्तान में रह रहा है और वहाँ से भारत में आतंकी घटनाओं को अंजाम देने के लिए हवाला के जरिए पैसे पहुँचाता है.. सईद के इस काम में कश्मीरी व्यापारी भी उसक साथ देते हैं.. प्रवर्तन निदेशालय(ED) को सईद के इस कारोबार की जानकारी मिल गई थी..आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई को ओर्र तेज करते हुए ईडी ने लश्कर सरगना और आतंकी हाफिज सईद के पैसों से गुरूग्राम में खरीदा गया विला जब्त कर लिया गया है बता दें कि इस विला को सईद के बैंकर और फाइनेंसर कश्मीरी व्यापारी जहुर अहमद शाह वटाली ने खरीदा था..

जिसकी जानकारी जाँच एजेंसी एनआईए को मिल चुकी थी.. और उसने उसे पिछले साल आतंकी संगठनों को फंडिंग देने के मामले में दबोचा था.. वटाली को इस विला को खरीदने के लिए हवाला के जरिए पैसे मिलते थे.. एक वर्ड यह यूज़ हो रहा है ..हवाला तो जानिए हवाला की होता है ..यह एक इलीगल और Informal money-transfer system है.. यह पैसे लेने-देने वाले दलालों के एक बहुत बड़े नेटवर्क के रूप में काम करती है.. हवाला का पूरा काम इस नेटवर्क के ‘विश्वास’ पर डिपेंड होता है.. हवाला विदेशी मुद्रा का एक स्थान से दूसरे स्थान पर गैर कानूनी तरीके से हस्तांतरण है, यह दलालो द्वारा किया गया करोबार या व्यापार कहलाता है.. कुछ व्यापारी या बिजनेस टैकून भी हवाला के जरीए ही काले धन को गैरकानूनी तरीके से सफ़ेद करते हैं …

जाँच एजेंसी का कहना है कि हाफिज सईद के नाम 24 बेनामी संपत्तियाँ हैं। वटाली के माध्यम से अलग अलग जगहों पर इन पैसों का इस्तेमाल किया गया है। जिसके साक्ष्य भी ईडी के पास मौजूद हैं.. जिसके बाद कार्रवाई करते हुए ईडी ने उसका विला जब्त कर लिया। ईडी के मुताबिक ये विला फलाह-ए-इंसानियत (एफआईएफ) के पैसों से खरीदा गया था। ये संगठन पाकिस्तान में सईद के द्वारा चलाया जाता है। जाँच में ये बात भी सामने आई है कि विला खरीदने के लिए पैसा संयुक्त अरब अमीरात से हवाला के जरिए भारत आया.. ईडी ने फरवरी में एफआईएफ के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया था.. इसी केस के तहत गुरूग्राम का विला जब्त किया गया..क्यों की हमारी सुरक्षा एजेंसी और सरकार लगातार अब आतंकवाद के उपर नक़ल कसने में लगी हुए है