अभी कोरोना का कहर ख़त्म भी नहीं हुआ कि वापस लौट आया एक और जा’नले’वा वायरस, इंसानों से इंसानों में फैलता है

875

अभी तो दुनिया में कोरोना का कहर ख़त्म भी नहीं हुआ. अभी तो दुनिया कोरोना के कहर से जूझ ही रही है कि एक और जा’नले’वा वायरस फिर से वापस लौट आया है और इसने वापस लौटते ही एक व्यक्ति की जा’न ले ली. हम बात कर रहे हैं इबोला की. अफ़्रीकी देश कांगो रिपब्लिक में इबोला ने खूब क’हर बरपाया था. अगस्‍त 2018 के बाद से कॉन्‍गो में इबोला ने 2200 से ज्‍यादा लोगों की जा’न ली है. हालाँकि पिछले 50 दिनों से कांगो में इबोला का कोई नया मामला सामने नहीं आया था. कांगो खुद को इबोला मुक्त घोषित करने की तैयारी कर चुकी थी लेकिन तभी एक व्यक्ति की इबोला से मौ’त हो गई और कांगों में फिर से इस जा’नले’वा वायरस ने हमला कर दिया.

 इबोला एक ऐसा वायरस है जो मरीज के संपर्क में आने से फैलता है. .मरीज के पसीने,मरीज के खून या सांस की चपेट में आकर टाइफाइड,कॉलरा,बुखार,और मांसपेशियों में दर्द होता है. बाल झड़ने लगते हैं. नशों से मांशपेशियों में खून उतर आता है और जा’न चली जाती है. साल 2013 और 2016 के बीच वेस्‍ट अफ्रीका में इबोला के चलते 11 हजार से ज्‍यादा लोगों की जा’न गई. साल 1976 में पहली बार मानव में इबोला वायरस का पता चला.

WHO का मानना है कि कॉन्‍गो में इबोला के और मामले सामने आ सकते हैं. कांगो एक राजनीतिक रूप से अस्थिर देश है. यहाँ सरकार और विद्रोहियों के बीच सं’घर्ष चलता रहता है. उसके अलावा कोरोना और अब इबोला ने उसकी कमर तोड़ दी है. कोरोना की तरह इबोला भी इंसान के संपर्क में आने से फैलता है. इसलिए अब दुनिया को ये डर सताने लगा है कि कहीं एक बार फिर इबोला अफ्रीका से बाहर निकल गया तो दुनिया में क’हर ढा देगा.