डिबेट में मौलाना ने महिला से कहा कि मैं ब’दतमीजों के मुंह नहीं लगता तो बदले में पैनलिस्ट ने कहा मैं आपको त’माचा..

2149

नागरिकता संशोधन कानून और NRC को लेकर देशभर में अलग-अलग जगह विरोध प्रदर्शन थमने का नाम नहीं ले रहा है जबकि सरकार इस मुद्दे को लेकर अपना रुख साफ़ कर चुकी है. दिल्ली के शाहीन बाग़ में पिछले 2 महीने से लोग विरोध करने में लगे हुए हैं. दिल्ली के शाहीन बाग़ सुप्रीम कोर्ट की तरफ से भेजे गये वार्ताकारों की बातचीत के बाद भी कोई हल नहीं निकला.

जानकारी के लिए बता दें केंद्र सरकार द्वारा लाये गये इस कानून को लेकर कुछ लोग इस बहकावे में आ गये हैं कि इसके लागू होने के बाद उनकी नागरिकता छिन जाएगी और उन्हें इस देश से अलग कर दिया जायेगा जबकि ऐसा नहीं है. सरकार ये भी कह चुकी है देश के किसी भी नागरिक की नागरिकता पर कोई असर नहीं पड़ेगा. इस मुद्दे को लेकर कई अलग-अलग चैनलों पर डिबेट भी चल रही है लेकिन न्यूज़ 18 में मौलाना और पेंलिस्ट के बीच तगड़ी झडप हो गयी.

एक टीवी चैनल पर बहस के दौरान मौलाना ने महिला पैनलिस्ट से कुछ ऐसा कह दिया कि वह मौलाना को थप्पड़ मारने तक की धमकी दे बैठी. दरअसल बहस के दौरान सुबुही खान अपना पक्ष रखते हुए ये कह रही थी कि यह भारत माता है कोई दूसरा लोकतांत्रिक देश होता तो… इतने कहने पर मौलाना साजिद रशीदी ने कह दिया कि आपकी माता होंगी. बस फिर इसी बात पर बहस बढ़ गयी. सुबुही खान ने इस बात पर कहा कि ये कैसी बात कर रहे हैं देखिये.

गौरतलब है कि आगे बहस में सुबुही खान ने मौलाना से कहा कि आपको बात समझ में नही आ रही है तो मौलाना ने कहा कि आपकी बातों में तर्क नहीं है मैं आपकी बातें क्यूँ सुनू? जिसपर सुबुही खान कहती हैं आपको महिला से बात करने की तमीज नहीं है और आपको पता है कि प्रोफेट मोहम्मद ने महिलाओं के बारे में क्या लिखा है ? पता होता तो आप इस तरह बात नहीं करते. इस पर साजिद रशीदी ने कहा कि मैं बदतमीजों के मुंह नहीं लगता. सुबुही खान ने आगे बहस के दौरान आप जिस तरीके से मुझसे बात कर रहे हैं उस हिसाब से मैं आपको थप्पड़ भी मार सकती हूँ.