मिशन उत्तर प्रदेश के लिए कांग्रेस ढूंढ रही मुस्लिम चेहरा, जेल से निकले डॉ. कफील खान जल्द…

318

उत्तर प्रदेश में 2022 में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. प्रियंका गाँधी के सहारे सत्ता में आने का ख्वाब देख रही कांग्रेस को मुस्लिम वोट खींचने के लिए एक ऐसी चेहरे की जरूरत है जिससे मुस्लिम खुद को जुड़ा हुआ महसूस कर सकें. ऐसे में कांग्रेस के लिए उम्मीद बन कर आये हैं डॉ कफील खान. डॉ कफील को योगी राज में प्रता’ड़ित मुस्लिमों का पोस्टर बॉय बना कर पेश किया जा रहा है. कांग्रेस को और चाहिए ही क्या था. उसे तो डॉ कफील के रूप में मन मांगी मुराद मिल गई. इसलिए जैसे ही कोर्ट ने कफील खान को रिहा करने का आदेश दिया कांग्रेस ने कफील खान के स्वागत में अपनी बाहें बिछा दी.

जब कफील खान को जेल से रिहा किया गया तो उस वक़्त वहां पूर्व कांग्रेस विधायक प्रदीप माथुर मौजूद थे. उन्होंने कहा, ‘वरिष्ठ पार्टी नेताओं के दिशानिर्देश पर, मैं काफिल की रिहाई के लिए औपचारिकताओं को पूरा करने आया था. प्रियंका गांधी ने भी कफील खान की रिहाई का स्वागत किया. जवाब में कफील खान भी कांग्रेस के प्रति अपना झुकाव दिखा रहे हैं. जेल से रिहा होने के बाद कफील खान ने कहा, ‘उन्होंने कहा, ‘मुश्किल समय में, प्रियंका गांधी वाड्रा ने मेरा समर्थन किया. मथुरा जेल से मेरी रिहाई के बाद उन्होंने फोन करके मुझसे बातचीत की. इसके लिए उनका बहुत बहुत शुक्रिया.’

कफील खान ने ये भी कहा कि कांग्रेस ने उनकी रिहाई के लिए बहुत संघर्ष किया. प्रियंका गाँधी के निर्देश पर ही वो राजस्थान गए. ऐसे में ये अटकलें लगाना गलत भी नहीं है कि वो जल्द ही कांग्रेस में शामिल हो कर अपनी राजनीतिक पारी की शुरुआत कर सकते हैं. जिस तरह से CAA विरोधी दं’गाइ’यों पर योगी सरकार ने सख्ती दिखाई और उनसे नुकसान की वसूली की. उसके बाद कफील खान को जेल, इनसब को लेकर कांग्रेस उत्तर प्रदेश में मुस्लिम वोटों की गोलबंदी में जुट गई है. और कफील खान के रूप में कांग्रेस को एक बड़ा मोहरा मिला है.