भारत के कड़े रुख के बाद डोनाल्ड ट्रम्प ने मारी पलटी, दिया बड़ा बयान

6086

कश्मीर में धारा 370 हटाए जाने और फिर जम्मू कश्मीर और लद्दाख केन्द्रशासित प्रदेश घोषित किये जाने के पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प से मुलाकत की थी. इस मुलाकात में इमरान ने ट्रम्प से कश्मीर मुद्दे पर मध्यस्थता करने की विनती करते नजर आये थे और इसी के बाद ट्रम्प ने यहाँ भी कहा था कि प्रधानमंत्री मोदी ने भी मध्यस्थता करने के लिए उनसे कहा था. इसके बाद भारत में बवाल मचा, कश्मीर को लेकर कदम उठाये गये देखिये कैसे अब डोनाल्ड ट्रम्प के सुर बदल गये है.

मिली जानकारी के मुताबिक अब डोनाल्ड ट्रम्प अपने ही बयान से पलट गये हैं. अब उन्होंने कश्मीर को द्विपक्षीय मुद्दा बताया है. ट्रंप ने कहा है कि वो भारत और पाकिस्तान के बीच कश्मीर के मुद्दे पर किसी तरह की मध्यस्थता नहीं करेंगे. अमेरिका में भारत के राजदूत हर्षवर्धन श्रृंगला ने ये जानकारी दी है. ट्रंप ने पहले मध्यस्थता का ऑफर दिया था लेकिन भारत के कड़े रुख के बाद ट्रंप ने पलटी मार ली है.

भारत ने ट्रम्प के उसे दावे को खारिज कर दिया था जिसमें उन्होंने दावा किया था कि भारत के प्रधानमंत्री मोदी ने उनसे कश्मीर के मुद्दे पर हस्तक्षेप करने के लिए कहा था. वैसे भारत सरकार ने कश्मीर को लेकर अब तक जो भी कदम उठाये हैं, उसपर पाकिस्तान बुरी तरफ बौखलाया है और पूरे विश्व से मदद मांग रहा है लेकिन यहाँ आपको जानना जरूरी है कि पाकिस्तान की मदद के लिए कोई भी देश तैयार नही है, यहाँ तक की चीन ने भी इस मसले पर बोलने से इंकार कर दिया है.

वहीं भारत सरकार द्वारा अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद अमेरिका ने कहा था कि वो जम्मू कश्मीर में घटनाक्रम पर करीब से नजर रख रहा है। साथ ही उसने सभी पक्षों से नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर शांति और स्थिरता बनाए रखने की अपील की थी