कोरो’ना सं’कट की वजह से ट्रम्प का बड़ा ऐलान, अब किसी बाहरी के अमेरिका में…

491

कोरो’ना  वायरस महा’मा’री आज पूरा विश्व जूझ रहा हैं. जिसमे अमेरिका की हालत भी कोरो’ना से काफी ज्यादा ही खराब होती जा रही हैं. सुपरपावर होने के नाते ऐसा लगता हैं कि अमेरिका के हाँथ से कोरो’ना वायरस निकलता दिख रहा हैं. अमेरिका में एक दिन में कोरो’ना से काफी ज्यादा मौ’ते हो रही हैं.

वहीँ इन सबके बीच अमेरिका ने इमिग्रेशन का मतलब होता है कि (अमेरिका के अंदर अब कोई भी बाहरी व्यक्ति को बसने की इजाजत नही होगी) को रोकने का फैसला लिया है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मंगलवार सुबह ये बड़ा ऐलान किया है. अमेरिका में अब अगले आदेश तक किसी भी बाहरी व्यक्ति को बसने की इजाजत नहीं दी जाएगी. डोनाल्ड ट्रंप ने इस बड़े फैसले का ऐलान अपने ट्विटर अकाउंट से किया. कोरो’ना वायरस की वजह से खड़े हुए अर्थव्यवस्था पर संकट को देखते हुए डोनाल्ड ट्रंप ने ये फैसला लिया है.

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मंगलवार सुबह ट्वीट कर ऐलान किया, ‘अदृश्य दुश्मन के हमले की वजह से जो स्थिति पैदा हुई है, उसमें हमें हमारे महान अमेरिकी नागरिकों की नौकरी को बचाकर रखना है. इसी को देखते हुए मैं एक ऑर्डर पर साइन कर रहा हूं, जो अमेरिका में बाहरी लोगों के बसने पर रोक लगा देगा.

अमेरिका के राष्ट्रपति ने आज एक बड़ा ऐलान करते हुए कहा कि अब अगले आदेश तक कोई भी विदेशी नागरिक अमेरिका का नागरिक नहीं बन पाएगा और ना ही इसके लिए अप्लाई कर पाएगा. दुनियाभर से लोग अमेरिका में नौकरी और बिजनेस के लिए जाते हैं, जो कि कुछ वक्त के बाद वहां पर ही सिटीजनशिप के लिए अप्लाई करते हैं लैटिन अमेरिका, यूरोप से बड़ी संख्या में लोग अमेरिका जाते हैं. इसके अलावा भारत समेत अन्य एशियाई देशों से भी इनकी संख्या में बढ़ोतरी आई है. लेकिन डोनाल्ड ट्रंप ने अब किसी भी तरह के इमिग्रेशन पर रोक लगा दी है, हालांकि ये रोक कोरो’ना को देखते हुए लगाई गई है. ये रोक अभी अस्थाई रूप से लगाई गई है.

दरअसल ट्रंप ने आज कोरो’ना वायरस के वि’कराल रूप को देखते हुए आज कल बड़े फैसले ले रहे हैं. अमेरिका अबतक के सबसे बड़े सं’कट का सामना कर रहा है. पिछले करीब दो महीने में अमेरिका में 1 करोड़ से अधिक लोग अपनी नौकरी गंवा चुके हैं और बेरोजगार को मिलने वाली की सुविधाओं के लिए अप्लाई कर चुके हैं. इसी को देखते हुए आज अमेरिका के राष्ट्रपति मजबूर थे तभी उन्होने ये बड़ा फैसला अपने नागरिको के हित में लिया है.