मुंबई के बाद अब दिल्ली में भी इकट्ठे हुए हज़ारों लोग, लॉकडाउन की उड़ी धज्जियाँ

1160

लॉकडाउन के बावजूद मुंबई में बांद्रा रेलवे स्टेशन के बाहर जुटे हज़ारों लोगों का मामला अभी ठंडा भी नहीं पड़ा तह कि अब दिल्ली में भी वैसी ही तस्वीरें सामने आई जिसने राज्य सरकार के व्यवस्था की पोल खोल कर रख दी. दिल्ली में कश्मीरी गेट के पास यमुना किनारे हज़ारों की संख्या में प्रवासी मजदूर पैदल ही एक जगह से दुसरे जगह जाते हुए देखे गए. इन मजदूरों का कहना है कि उनके पास खाने को कुछ नहीं है. कई दिनों से वो एक टाइम का खाना खा कर ही जिंदा है.

यमुना नदी के किनारे हजारों की संख्या में दिहाड़ी मजदूरों एक साथ इकट्ठे हो जाने के कारण सोशल डिस्टेंसिंग की जमकर धज्जियां उड़ा रही है. इन्हें दिल्ली के अलग अलग शेल्टर होम ले जाने की कोशिश हो रही है. बताया जा रहा है कि ये कुछ दिनों पहले तक कश्मीरी गेट के पास बने एक शेल्टर होम में रह रहे थे. लेकिन बीते दिनों वहां आग लग गई जिसके बाद ये ये मजदूर अब बेघर हैं. उनके पास खाने को कुछ नहीं है. एक गुरुद्वारे से उन्हें कुछ खाने को मिल जाता है. लेकिन पिछले कई दिनों से वो एक ही वक़्त का खाना खा कर जिंदा हैं.

इससे पहले भी दिल्ली में ऐसा ही नज़ारा दिखा था जब पहली बार 21 दिनों के लिए लॉकडाउन का ऐलान किया गया था तब भी ऐसे ही नजार देखने को मिला था जब हज़ारों की संख्या में प्रवासी मजदूर यूपी बॉर्डर पर इकट्ठे हो गए थे. जिसके बाद देश में काफी हंगामा हुआ था और अरविन्द केजरीवाल सरकार सवालों के घेरे में आ गई थी. एक बार फिर वही नज़ारा देखें को मिल रहा है दिल्ली में. कल ऐसा ही नज़ारा मुंबई के बांद्रा में देखने को मिला था.