दिल्ली में दं’गे भड़काने के आरोप में कांग्रेस की पूर्व पार्षद इशरत जहाँ गि’रफ्ता’र, भेजी गई इतने दिनों के लिए जे’ल

1609

हिं’सा के बाद नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली शांति के साथ पटरी पर लौट रही है. दिल्ली पुलिस ने भी हालात सँभालने के बाद अब उनलोगों की पहचान करनी शुरू कर दी है जिन्होंने नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली को हिं’सा की आ’ग में झों’क’ने में भूमिका निभाई. कांग्रेस की पूर्व निगम पार्षद इशरत जहां को दिल्ली पुलिस ने दं’गा भड़काने के आरोप में गिरफ्तार किया है. वो पिछले 50 दिनों से खुरेजी में CAA के खिलाफ प्रदर्शन कर रही थी. पिछले रविवार को जब नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली में हिं’सा भ’ड़की तो आरोप लगा कि इशरत जहाँ ने खुरेजी में सड़क को जाम किया था. इशरत को 14 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में भेजा गया है.

दिल्ली दं’गों में म’रने वालों की संख्या अब तक 41 पहुँच चुकी है. दिल्ली पुलिस ने हिं’सा की जांच के लिए अब साइबर सेल की मदद मांगी है. तरह तरह के फुटेज की जांच की जा रही है. उन वीडियो फुटेज की भी जांच की जा रही है जो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं. कई फुटेज ऐसे हैं जिन्हें बहुत दूर से शूट किया गया है, इस कारण उनकी क्वालिटी बेहद ख़राब है. इसलिए दिल्ली पुलिस ने साइबर सेल से मदद मांगी है. साइबर सेल अत्याधुनिक सॉफ्टवेयर की मदद से फुटेज की जाँच करती है.

 पुलिस ने दिल्ली में हुए दं’गों में 200 से भी अधिक लोगों को प्रिवेंटिव कस्टडी में लिया है, जिनसे पूछताछ जारी है. इशरत जहाँ ने अदालत में जमानत याचिका दाखिल की थी, जिसे ख़ारिज कर दिया गया है. दिल्ली की एक अदालत ने इशरत जहाँ की जमानत याचिका खारिज कर दी.