संकरी गलियां और घर में ही फैक्ट्री, दिल्ली में 50 लोग समा गए मौ’त की आगोश में

2082

दिल्ली के रानी झांसी रोड पर सुबह के साढ़े चार बजे अचानक हाहा’कार मच गया. जिस वक़्त पूरी दिल्ली गहरी नींद में सोई थी उस वक़्त इस रोड पर स्थित अनाज मंडी के एक चार मंजिला इमारत में भ’यंकर आ’ग लग गई. इस इमारत में मौजूद लोग भी बाकी दिल्ली वासियों की तरह गह्त्री नीन्द में सो रहे थे इसलिए जिस वक़्त आ’ग लगी उन्हें भागने का मौका भी नहीं मिल पाया.

जिस इमारत में आ’ग लगी वो बेहद संकरी गली में है इसलिए बचाव कार्य में दिक्कतें आई और एक एक कर के करीब 50 लोग मौत के मुंह में समा गए. वहां आस पास पानी का कोई श्रोत भी नहीं था जिस कारण दमकल की गाड़ियों को काफी दूर दूर से पानी ले कर आना पड़ा. साथ ही गली में एक बार में एक ही गाडी अन्दर जा सकती थी.

पुलिस के मुताबिक़ आ’ग शोर्ट सर्किट से लगी. दरअसल वो एक रिहायशी इमारत थी लेकिन वहां अवैध रूप से बेकरी फैक्ट्री चलाई जा रही थी साथ ही वहां पैकेजिंग का काम भी होता था. जब रात को फैक्ट्री का काम बंद हो जाता था तो मजदूर वहीँ सो जाते थे इसलिए जब आ’ग लगी तो सोये हुए लोग पूरी तरह से घिर गए. गली बेहद संकरी थी इसलिए जब तक फायर ब्रिगेड की गाडी मदद के लिए पहुँचती इमारत में काफी धुआं भर गया और लोगों का दम घु’टने लगा.

घा’यल लोगों को सफदरजंग, हिंदूराव, एलएनजेपी और आरएमएल अस्पताल में भर्ती कराया गया है. कई लोगों की हालत काफी नाजुक है इसलिए उनके बचने की उम्मीद काफी कम है. पीएम मोदी और राष्ट्रपति ने घटना पर दुःख जताते हुए ट्वीट किया है.  दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मृतकों के परिजनों को 10 लाख और घायलों को 1 लाख रुपये का मुआवजा देने की घोषणी की है। बीजेपी ने भी पीड़ित परिवारों को 5 लाख रुपये की सहायता देने का ऐलान किया