अमित शाह के बयान ने मचाई हलचल, केजरीवाल के सामने उतर सकते हैं ये नेता

आने वाले वक़्त में दिल्ली में विधानसभा चुनाव होने हैं. आम आदमी पार्टी ने तो “अच्छे बीते 5 साल, लगे रहो केजरीवाल” नारे के जरिये अपना चुनावी अभियान शुरू कर दिया है जबकि भाजपा की तरफ से मुख्यमंत्री पड़ का उम्मीदवार कौन होगा इसको लेकर अभी भी अटकलों का बाजार गर्म है. अभी तो लोग केन्द्रीय मंत्री हर्षवर्धन, वरिष्ठ नेता विजय गोयल और प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी के नाम की अटकलें लगा ही रहे थे कि गृहमंत्री अमित शाह के एक बयान ने इन नेताओं के साथ साथ भाजपा समर्थकों को भी असमंजस में डाल दिया.

बीते दिनों कड़कड़डूमा में ईस्ट दिल्ली हब का शिलान्यास करने पहुंचे अमित शाह ने कहा ”पांच साल का लेखा जोखा लेकर मैं उनको (अरविंद केजरीवाल) कहना चाहता हूं कि दिल्ली का कोई भी सार्वजनिक स्थान तय कर लो भारतीय जनता पार्टी का सांसद प्रवेश वर्मा आपके साथ चर्चा करने के लिए उपलब्ध हो जाएगा. भारत सरकार ने क्या किया दिल्ली सरकार ने क्या किया.”

अमित शाह के इस बयान के बाद अचानक से दिल्ली के सियासी गलियारों में ये चर्चा तेज हो गई कि क्या भाजपा दिल्ली के संग्राम में केजरीवाल के खिलाफ परवेश वर्मा को उतारने वाली है? क्योंकि अब से पहले परवेश वर्मा पुरे परिदृश्य में कहीं नहीं थे. अचानक से अमित शाह ने उनका नाम केजरीवाल के सामने बहस के लिए किया है तो यूँ ही नहीं किया होगा. अमित शाह कोई भी काम या बात यूँ ही नहीं करते बल्कि उसके कई मायने होते हैं. खैर अमित शाह के इस बयान ने भाजपा के उन बड़े नेताओं की नींद तो उदा ही दी है जो खुद को मुख्यमंत्री पद का दावेदार मान चुके थे.

Related Articles