दिल्ली की जंग में केजरीवाल के खिलाफ उतर सकती हैं दो पूर्व मुख्यमंत्रियों की बेटियां

3123

दिल्ली के चुनावी दंगल में भाजपा, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच जोर आजमाइश शुरू हो चुकी है. एक तरफ जहाँ आम आदमी पार्टी ने सभी 70 सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है. वहीँ भाजपा और कांग्रेस अब तक उम्मीदवारों के नाम पर उधेड़बुन की स्थिति में हैं.

दिल्ली की 70 विधानसभा सीटों में से सबकी नज़र नई दिल्ली सीट पर हैं. यहाँ से आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार हैं खुद मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल. इस सीट से केजरीवाल को हराना इतना आसान नहीं है. अरविन्द केजरीवाल ने इसी सीट से 2013 में दिल्ली की तत्कालीन मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को हरा कर राजनीति में धमाकेदार इंट्री की थी. उसके बाद उन्होंने 2015 में कांग्रेस की ही कद्दावर उम्मीदवार किरण वालिया को हराया था. ऐसे में भाजपा और कांग्रेस के सामने सबसे बड़ी चुनौती है मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को घेरना. ऐसे में दोनों ही पार्टियाँ अरविन्द केजरीवाल के खिलाफ ऐसा उम्मीदवार खड़ा करना चाहती हैं जिनके नाम से न सिर्फ जनता भी अरविन्द केजरीवाल भी सरप्राइज हो जाएँ.

दिल्ली के सियासी गलियारों में ये चर्चा तेजी से चल रही है कि इस बार भाजपा और कांग्रेस केजरीवाल को चुनौती देने के लिए बेटियों को मैदान में उतार सकती है. अगर पहले बात करें कांग्रेस की तो मीडिया में ये खबर जोरों से चल रही है कि पूर्व मुख्यमंत्री और दिवंगत शीला दीक्षित की बेटी लतिका को नई दिल्ली सीट से अरविन्द केजरीवाल के खिलाफ उतार सकती है. कांग्रेस को लगता है कि शीला दीक्षित के नाम पर सहानुभूति वोट हासिल कर के लतिका, केजरीवाल को हरा देगी.

अब अगर बात करें भाजपा की तो ये चर्चा बहुत तेजी से चल रही है कि भाजपा नई दिल्ली सीट से दिवंगत सुषमा स्वराज की बेटी बांसुरी को उतार सकती है. कहा जा रहा है कि दिल्ली भाजपा भी इस नाम पर सहमत है और उनका नाम दिल्ली भाजपा के बड़े नेताओं ने ही आगे बढाया है. हालाँकि ये सिर्फ अटकलें है. जब तक दोनों पार्टियाँ नाम घोषित नहीं करती तब तक अटकलें तो लगती ही रहेंगी.