दिल्ली सीएम केजरीवाल ने प्राइवेट और सरकारी अस्पताल को लेकर किया ये बड़ा ऐलान

कोरोना वायरस ने दिल्ली में अपना क’हर बरपाना शुरू कर दिया है. अब देश में मुंबई के बाद दिल्ली की भी हालत कोरोना को लेकर काफी खरब हो गई हैं वहां पर आये दिन कोरोना मरीजों की संख्या बढती जा रही हैं. इसके बाद भी दिल्ली के सीएम केजरीवाल उसपर क्या कर रहें है समझ से परे हैं.अब कोरोना वायरस का’ल में दिल्ली सीएम केजरीवाल ने बड़ा फैसला लिया हैं. सीएम केजरीवाल ने कहा है कि अब दिल्ली के लोग सरकारी और प्राइवेट  अस्पताल में सिर्फ दिल्ली वाले लोग ही अपना इलाज करवा सकेंगे. वहीँ केंद्र सरकार के जितने हॉस्पिटल हैं वो सभी लोगों के लिए खुलें हैं.

दिल्ली सरकार के मुखिया केजरीवाल ने ये फैसला अपनी कैबिनेट बैठक में लिया हैं. अरविंद केजरीवाल ने बताया कि ‘दिल्ली सरकार के अंतर्गत आनेवाले हॉस्पिटल और दिल्ली के प्राइवेट हॉस्पिटलों में सिर्फ दिल्ली के लोगों का इलाज होगा. वहीं केंद्र सरकार के हॉस्पिटल जैसे एम्स, सफरदरजंग और राम मनोहर लोहिया (आरएमएल) में सभी लोगों का इलाज हो सकेगा, जैसा अबतक होता भी आया है.’ हालांकि, कुछ प्राइवेट हॉस्पिटल जो स्पेशल स’र्जरी करते हैं जो कहीं और नहीं होती उनको करवाने देशभर से कोई भी दिल्ली आ सकता है, उसे रोक नहीं होगी.

केजरीवाल ने अपने इस फैलसे के बाद ये त’र्क दिया है कि दिल्ली के अंदर 60-70 प्रतिशत लोग बाहर से आते हैं और इस वक़्त कोरोना वायरस महामारी से दिल्ली बहुत बुरी तरह से झूज रहा हैं. जिसको देखते हुए ये फैसला लिया गया हैं. केजरीवाल ने कहा है कि अगर हम बाहर के लोगों का इलाज करेंगे तो दिल्ली वाले अपना इलाज कहा करवाने जायेंगे. केजरीवाल ने ये भी बताया कि हमने 5 डॉक्टर की कमिटी बनाई थी जिसका मानना था कि अभी दिल्ली के अंदर सिर्फ दिल्लीवालों का इलाज किया जाये. इसको देखते हुए अपने ये फैसला लिया है.

Related Articles