HAL पर सवाल खड़ा कर खुद ही घिर गये राहुल गांधी, रक्षा मंत्री ने ऐसे दिया जवाब

485

देश में अभी राफेल का मुद्दा शांत नही हुआ कि भारतीय कंपनी HAL को लेकर विवाद शुरू हो गया है. संसद में रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने HAL को लेकर एक बयान में कहा कि हिंदुस्तान ऐरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) को सरकार की तरफ से 1 लाख करोड़ रुपये के प्रोक्यूरमेंट ऑर्डर पाइपलाइन में हैं.

रक्षा मंत्री के इस बयान के दो दिन बाद राहुल गांधी इस मुद्दे को लेकर सामने आते है और ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ की एक रिपोर्ट को ट्वीट कर रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण पर सदन में झूठ बोलने का आरोप लगाते हुए बोले कि राफेल पर प्रधानमंत्री के झूठ का बचाव करने की उत्सुकता में रक्षा मंत्री ने संसद से झूठ बोला रक्षामंत्री (सीतारमण) को कल (सोमवार) संसद में वे दस्तावेज पेश करने चाहिए, जिससे साबित हो कि सरकार ने HAL को 1 लाख करोड़ रुपये के ठेके दिए हैं या फिर वह इस्तीफा दें।’


राहुल गाँधी के इस बयान पर जवाब देते हुए रक्षा मंत्री 2015 से लेकर अभी तक जितने भी कॉन्ट्रैक्ट दिए गये है. उन सभी की जानकारी देते हुए कहती है कि शर्म की बात है. कांग्रेस के अध्‍यक्ष पूरे देश को गुमराह कर रहे हैं. 2014 से 2018 के बीच एचएएल के साथ 26570.8 करोड़ के कॉन्‍ट्रेक्‍ट साइन किए गए. 73000 करोड़ के प्रोजेक्‍ट पाइपलाइन में हैं. क्‍या अब राहुल गांधी संसद में देश से माफी मांगेंगे.


अब ऐसे माहौल में हमने सोचा कम से कम से रक्षा मंत्री द्वारा दिए गये जवाब को आप तक पहुंचाए और आप भी जाने कि राहुल गाँधी ने जिस मुद्दे पर चुनौती दी थी उस पर रक्षामंत्री की तरफ से क्या जवाब आया है.

रक्षा मंत्रालय के अनुसार इंडियन एयर फ़ोर्स के लिए डोर्निअर DO 228 के 14 एयरक्राफ्ट का कॉन्ट्रैक्ट साल २०15 में दिया गया था जिसकी कीमत 1090 करोड़ थी और इसे साल 18-19 में पूरा करना था.

  1. इंडियन एयर फ़ोर्स के लिए के लिए ही डोर्निअर DO 228 (FIS) के 2 एयरक्राफ्ट का कॉन्ट्रैक्ट 214 करोड़ की लागत के साथ साल 2016 में ही दिया गया था. इस प्रोजेक्ट का काम साल 2019-20 में पूरा होना है
  2. चीतल (10 हेलीकाप्टर) जिसकी कीमत 203 करोड़ के साथ साल 2015 में HAL को दिया गया था इसका भी काम 2019-20 तक पूरा होना था
  3. इंडियन एयर फ़ोर्स के लिए ही AL-31FP के 113 इंजिन के लिए 7739 करोड़ की कीमत का कॉन्ट्रैक्ट साल 2016 में दिया गया था जिसका काम साल 2021- 22 में पूरा होना है
  4. इंडियन एयर फ़ोर्स के लिए RD 33 इंजिन, कीमत 659.80 करोड़ का कॉन्ट्रैक्ट साल 2018 में दिया गया …जिसका काम 2020-21 में पूरा होना है
  5. आर्मी के लिए ALH के 40 हेलीकाप्टर का कॉन्ट्रैक्ट साल 2017 में दिया गया, जिसकी कीमत 5968.49 करोड़ की है.
  6. इंडियन नेवी के लिए ही डोर्निअर DO 228 (12 एयरक्राफ्ट) 2016 में 2124 करोड़ का कॉन्ट्रैक्ट दिया गया .
  7. नेवी के लिए ही साल 2017 में ALH के 16 हेलीकाप्टर…कीमत 2925 करोड़, ALH का एक और हेलीकाप्टर…कीमत (131.51) करोड़ . नेवी के लिए ही 8 चेतक हेलीकाप्टर…कीमत 390 करोड़, कोस्ट गार्ड के लिए ALH के 16 हेलीकाप्टर कीमत 5126 करोड़ का कॉन्ट्रैक्ट HAL को दिया गया.
    इन सभी कॉन्ट्रैक्ट को अगर मिला दिया जाए तो 26570.8 करोड़ का कॉन्ट्रैक्ट एचसीएल के पास पहुंचा है.

  8. इनमे से अधिकतर कॉन्ट्रैक्ट 2020 से लेकर 2022 तक पूरे होने वाले हैं. अब राहुल गाँधी से सवाल किया जाना चाहिए कि 100 करोड़ के कॉन्ट्रैक्ट का सबूत मांग रहे थे अब आपके सामने 28 हजार करोड़ से अधिक के कॉन्ट्रैक्ट के सबूत आ चुके है, इस पर वे क्या कहेंगे? राहुल गांधी जी…. आप इस तरह लोगों को गुमराह करके क्या हासिल करना चाहते हैं? ऐसे लगता है कि आप रात रात भर जगकर मुद्दा खोजने की कोशिश करते हैं और कुछ ही पल में सरकार के लोग आपनी सोच पर पानी फेर देते हैं.
    यहाँ ये समझना मुश्किल हो जाता है कि संसद में झूठ बोलकर, चर्चा के दौरान आँख मारकर, सोशल मीडिया पर सबूत मांगकर आप जो साबित करना चाहते हैं वो सब समझ चुके है और आपको लगातार जवाब भी मिलता आ रहा है. राहुल जी आप अपने ही चाल में फंसते जा रहे हैं…संभल जाइए तो ठीक है नही तो…

अधिक जानकारी के लिए देखिये वीडियो

https://youtu.be/2EJFwNNxJkM