भारत की कोवैक्सीन के नाम दर्ज हुई एक और बड़ी उपलब्धि, स्टडी में हुआ बड़ा दावा जानिए

देश में कोरोना की दूसरी लहर का प्रकोप बरकरार है. हर दिन लाखों की संख्या में कोरोना के नए मामले सामने आ रहे हैं वहीं हजारों लोगों की जान जा रही है. ऐसे में केंद्र सरकार और राज्य सरकारें वैक्सीनेशन को तेज करने में लगी हुई हैं. भारत में अब दो स्वदेशी वैक्सीन के साथ साथ रूस की sputnik को इस्तेमाल को भी मंजूरी मिल गयी है लेकिन इसी बीच एक बड़ी खबर आ रही है.

जानकारी के लिए बता दें भारत की स्वदेशी कोवैक्सीन के नाम एक और बड़ी उपलब्धि जुड़ गयी है. एक स्टडी में दावा किया गया है कि कोरोना के जो नए वेरियंट के खिलाफ ये वैक्सीन प्रभावी है. भारत में कोरोना का जो नया वेरियंट B.1.617 और यूके में मिले B.1.1.7 वेरिएंट के खिलाफ भी ये वैक्सीन सुरक्षा देती है.

भारत में कोरोना की जो दूसरी लहर आई है उसमें संक्रमणों और मौत के मामले में इसी वेरियंट को ही जिम्मेदार माना गया है. यहां तक की WHO ने भी ये बात कही है कि ये स्थिति पूरी दुनिया के लिए भी खतरनाक साबित हो सकती है. कोवैक्सीन के नाम जो ये बड़ी उपलब्धि जुड़ी है उसके बारे में इस वैक्सीन को निर्मित करने वाली Bharatbiotech की सह संस्थापक सुचित्रा इल्ला ने दी है.

गौरतलब है कि वैक्सीन के मामले में भारत का पूरी दुनिया में डंका बज रहा है और तमाम देश वैक्सीन मांग रहे हैं. सुचित्रा इल्ला ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि ‘Covaxin को एक बार फिर से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिली है. हाल ही में प्रकाशित किए गए रिसर्च के आंकड़ों के मुताबिक कोवैक्‍सीन नए वेरिएंट्स को लेकर भी सुरक्षा देता है. यह हमारे लिए एक और बड़ी उपलब्धि है.