नोएडा में कोरोना के 5 नए मामले आये सामने, घरों को किया गया सील

124

आज पूरा विश्व एक भयंकर महामारी से जूझ रहा है. जिकसी वजह से कई लोगो की मौत हो गयी है और सैकड़ों लोग अभी भी इसकी चपेट में है. हालत दिन पर दिन ख़राब ही होते जा रहे है. भारत में अभी तक 900 के करीब मामले सामने आ गए है जबकि 21 लोग की इस महामारी के कारण मौत हो गयी है. हालातों को देखते हुए सरकार ने 21 दिन लॉक डाउन का ऐलान किया था और लोगो से अपील की थी कि वो इस बात को माने और अपने घरो में ही सुरक्षित रहे.

बता दे हुआ यह था कि चीन के वुहान प्रांत में कोरोना वायरस की वजह से कई लोगो की मौत हो गयी थी और सैकड़ों की संख्या में लोग इस महामारी से संक्रमित पाए गए थे. जिसके बाद वहां हालत धीरे धीरे बेकाबू हो गए. जिसके बाद यह महामारी दुनिया भर में फैल गयी और इसी बीमारी की चपेट में भारत भी आ गया. वही सरकार ने हालातों को देखते हुए कड़े कदम उठाये है.

हाल ही में नोएडा  में पांच नए कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आये है. जिसके बाद सभी मरीजों के घरो को सील कर दिया गया है. इसके अलावा दिहाड़ी मजदूरों को इस संकट की स्थिति में राहत देते हुए नोएडा के डीएम बीएन सिंह ने सभी मकान-मालिकों को निर्देश दिया है कि वो अपने यहां रहने वाले किसी भी कामगार मजदूरों से एक महीने का किराया नहीं लेंगे, और अगर किसी भी मकान मालिक किराया वसूला या उनके खिलाफ किराया मांगने या किसी अन्य तरह के दबाव बनाने की शिकायत मिलती है तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

इसके अलावा यदि आदेश का उलंग्घन किया तो राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 51 के अंतर्गत उन्हें एकसाल की सजा और जुर्माना देना हो सकता है. इतना ही नहीं आदेश के उल्लंघन करने की स्थिति में अगर किसी तरह के जानमाल की क्षति होती है तो उसे दो साल के जेल की सजा भी हो सकती है. गौरतलब है सरकार कोरोना मसले पर अपनी तरफ से हर प्रयास कर रही है ताकि इसकी वजह से किसी भी व्यक्ति को परेशानी न हो.