कोरोना वायरस से बीच भारत के लिए जगी उम्मीद की किरण, वैक्सीन आने को लेकर आ रही है ये अच्छी खबर !

दुनियाभर के देशों की तमाम कोशिशों के बावजूद भी कोरोना का कहर थम नहीं रहा है. हर दिन कोरोना के मरीजों की रफ़्तार काफी तेजी से बढ़ रही है. दुनियाभर के देश इस बीमारी का इलाज ढूढ़ने में लगे हुए हैं न ही इसकी दवा बनी है न ही कोई वैक्सीन तैयार हुई है जिससे लोगों को इस बीमारी से बचाया जा सके. अमेरिका में कोरोना वायरस के संक्रमित मरीजों की संख्या 6 लाख से भी ज्यादा हो चुकी है और हर दिन हजारों लोग जान दे रहे हैं.

जानकारी के लिए बता दें दुनियाभर के देश इस बीमारी की वैक्सीन बनाने में लगे हुए हैं. इसी बीच भारत के लिए एक अच्छी और उम्मीदभरी खबर वैक्सीन को लेकर आ रही है. बताया जा रहा है कि भारत को कोरोना से लड़ने के लिए इस साल वैक्सीन मिल सकती है. ब्रिटेन की ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी में भी इसका ट्रायल शूरू हो रहा है. इस बीमारी से 22 लाख से अधिक लोग पूरी दुनिया में संक्रमित हो चुके हैं. वहीँ इस बीमारी से डेढ़ लाख से अधिक लोग अपनी जान दे चुके हैं.

विश्व प्रसिद्ध वैक्सीनोलॉजिस्ट और प्रोफेसर एड्रियन हिल ने दावा करते हुए कहा है कि सितंबर तक दुनिया में पहली कोरोना वायरस की वैक्सीन आ जाएगी. उम्मीद जताई जा रही है कि ये वैक्सीन कोरोना जैसी बीमारी का अंत कर देगी. प्रोफेसर हिल का कहना है कि अगर ट्रायल पूरी तरह से ठीक हो जाता है तो सितंबर से इस दवाई की सप्लाई शुरू कर दी जाएगी.

गौरतलब है कि भारत में भी ये दवाई इस साल के अंत तक आ सकती है. अभी हाल ही में एड्रियन हिल ने बताया है कि अभी कई वैक्सीन ट्रायल के रूटीन में हैं. ऑक्सफ़ोर्ड में भी ऐसी ही एक वैक्सीन पर काम चल रहा है. उन्होंने कहा है कि हमें उम्मीद है हम इस ट्रायल में सफल होंगे, जिसके बाद हमारा मुख्य लक्ष्य अधिक से अधिक इस वैक्सीन को बनाना होगा.