यूपी के मेरठ में एक ही परिवार में कोरोना के कई मरीजों की हुई पुष्टी, प्रशासन में मचा हड़कंप

217

आज पूरा विश्व एक भयंकर महामारी से जूझ रहा है. जिसकी वजह से कई लोगों की मौत हो गयी है और सैकड़ों लोग अभी भी इसकी चपेट में है. हालत दिन पर दिन ख़राब होती जा रही है. भारत में सरकारी आंकड़ो के अनुसार अभी तक 1071 के करीब मामले सामने आ गए है. जबकि 29 लोगों की मौत हो गई है. मौजूदा हालातों को देखते हुए सरकार ने 21 दिन लॉक डाउन करने का ऐलान किया था और लोगों से अपील की थी कि वो इस बात को माने और अपने घरो में ही सुरक्षित रहे. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कोरोना से लड़ने के लिए जी जान से लगे हुए हैं. ताकि देश को इस महामारी से बचाया जा सके.

वहीं उत्तर प्रदेश के कई जिलों में कोरोना के मरीज बढ़ते जा रहे है. जबकी योगी आदित्यनाथ इस समय पूरी तरह से लगे हुए है. उसके बावजूद भी कोरोना का खतरा लगातार बढ़ रहा है. दरअसल यूपी के मेरठ में एक ही परिवार में आठ नए कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं. इसके साथ ही फैमिली कुल 13 लोगों को कोरोना संक्रमण हो गया है. इन सबके बीच अभी पीड़ितों की तादाद बढ़ सकती है, क्योंकि 46 में से 11 की ही रिपोर्ट आई है. इस परिवार के पांच लोग कोरोना संक्रमित पाए गए थे, उसके बाद चेन ऑफ ट्रांसमिशन से बाकी लोगों को ट्रेस किया गया.

मेरठ में रविवार को कोरोना वायरस के एक ही परिवार में 8 नए मरीज मिले हैं. मुख्य चिकित्सा अधिकारी (CMO) डॉक्टर राजकुमार के मुताबिक जिले में कोरोना वायरस पॉजिटिव मरीजो की संख्या अब बढ़कर 13 हो गई है. सभी 13 पीड़ित एक ही परिवार के हैं. अभी मरीजों की संख्या बढ़ने का अनुमान है क्योंकि निगरानी में लिए गए 46 में से सिर्फ 11 की ही जांच हुई है. 35 की रिपोर्ट आनी अभी बाकी है.

दरअसल यूपी के मेरठ में जिन लोगों के अंदर कोरोना पाया गया है. वो शख्स खुर्जा का रहने वाला है. लेकिन वो महाराष्ट्र के अमरावती से मेरठ में अपनी ससुराल आया था औऱ वो शख्स वहीं से कोरोना लेकर आया और उसने यहां पर रहने वाले अपने बाकी लोगों को भी दे दीया. इसके बाद उसकी पत्नी और तीन रिश्तेदारों में कोरोना संक्रमण मिला था.

इतनी ज्यादा ये बीमारी फैल रही है. उसके बाद भी लोगों के समझ में नही आता है और लोग इस बिमारी को अगर इसी तरह हल्के में लेते रहे. तो आने वाले वक्त में ये महामारी देश को गर्दिश की तरफ धकेल देगी. इसलिए खुद मोदी ने लोगो से अपने घर की लक्ष्मण रेखा पार करने को मना किया था. उसके बाद भी लोगो को समझ नही आता है.