चुनाव की तारीख सामने आते ही गन्दगी फैलाने लगे ये लोग

404

सप्ताह के सात दिनों के अलावा भी बहुत से “डे” होते हैं दुनिया में जो हमको बहुत दिनों के बाद पता चले. कल यानी 15 मार्च का ही ले लीजिये. कल “वर्ल्ड स्लीप डे” था, और हमको ये बात पता ही नहीं थी. पता चलती भी नहीं अगर कांग्रेस पार्टी केंद्र सरकार को नीचा दिखाने के चक्कर में खुद नीचा ना देख लेती.

दरअसल इस साल होने वाले लोकसभा चुनावों की घोषणा हो चुकी है. और ये बात आप जानते ही होंगे कि चुनावों की तारीख आ जाने के बाद आरोपों और प्रत्यारोपों का कैसा घमासान छिड़ता है. कैसे हर राजनीतिक पार्टी मौके तलाशती है अपनी विरोधी पार्टियों को नीचा दिखाने के.

कांग्रेस ने भी ऐसी ही एक कोशिश की वर्ल्ड स्लीपिंग डे यानी 15 मार्च को. लेकिन कांग्रेस की इस कोशिश के नतीजे उल्टे साबित हुए. और भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ चली गई अपनी इस चाल का खामियाजा खुद कांग्रेस को ही भुगतना पड़ा.

15 मार्च को कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी को नीचा दिखाने के लिए अपने ट्विटर अकाउंट से एक फोटो शेयर की. इस फोटो में एक ट्रक दिखाई दे रहा है जिसके पीछे लिखा है,

“कृपया हॉर्न ना बजाएं, मोदी सरकार सो रही है.”

इस फोटो के साथ कैप्शन लिखा गया,

” If you’re awake this ones for you, sadly Modi won’t be reading this. #WorldSleepDay”

मतलब अगर आप जाग रहे हैं तो ये आपके लिए है, अफ़सोस कि मोदी इसको नहीं पढ़ रहे. इसके अलावा कैप्शन में #WorlsSleepDay का हैशटैग भी लगाया गया.

कांग्रेस के ट्विटर अकाउंट पर डाली गई इस फोटो को देखकर साफ़ पता चल रहा है कि फोटो को एडिट कर किसी ने इसके पीछे एक सफ़ेद प्लेट को जोड़ा है, और उसी प्लेट पर यह बात लिखी गयी है. यही वज़ह है जिसके चलते सोशल मीडिया यूजर्स ने कांग्रेस की जमकर आलोचना की.

लोगों ने इस तरह की हरकत के लिए सोशल मीडिया पर कांग्रेस को जमकर लताड़ा. इसके अलावा बहुत से लोगों ने इस फोटो को दोबारा एडिट कर के कांग्रेस के खिलाफ ही पोस्ट करना शुरू कर दिया. बहुत से ट्विटर यूजर्स ने इस फोटो को एडिट किया, और फिर इस फोटो का इस्तेमाल करते हुए कांग्रेस पार्टी और इसके नेताओं का जमकर मज़ाक बनाया.

बहुत से लोगों ने इस फोटो को एडिट किया, और फोटो के पीछे कांग्रेस का मज़ाक बनाने वाली बातें लिखकर, सोशल मीडिया पर इस फोटो में कांग्रेस को टैग किया. वहीँ बहुत से ट्विटर यूजर्स ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी को सपोर्ट करने वाले फोटोज अपलोड करते हुए कांग्रेस को जवाब दिया.

एक लम्बे वक़्त से अक्सर ऐसा देखने को मिलने लगा है कि ना तो कोई नेता दूसरे नेता पर पर्सनल कमेंट करने से चूकता है, और ना ही उसके परिवार पर. और झूठ, छल, कपट तो जैसे बाएं हाथ का खेल भर है. लोग कुछ दिनों तक याद रखते हैं कि किसने क्या किया, और उसके बाद भूल जाते हैं.

और जनता की भूलने की यही आदत राजनीतिक पार्टियों को ताकत देती है कि कुछ भी बोलो, कुछ भी पोस्ट करो, और आगे बढ़ जाओ. यही वज़ह है कि चुनाव के माहौल में राजनीतिक पार्टियों की तरफ से इस तरह की हरकतें अब आम होती जा रही हैं. अक्सर सोशल मीडिया पर इस तरह की घटनाएं होती ही रहती हैं. और लोग इन्ही राजनीतिक पार्टियों के समर्थन और विरोध में लगे रहते हैं.

कुर्सी के लिए राजनीति का स्तर दिन पर दिन गिरता जा रहा है. और यही वज़ह है कि अब राजनीति सोशल मीडिया पर लोगों के मनोरंजन का साधन बनती जा रही है. हमारी नज़र से अगर देखा जाए तो दिन पर दिन राजनीति का ये बदलता रूप सच में बहुत अजीब सा लगता है.