प्रियंका गाँधी को ये बड़ी जिम्मेदारी देने जा रही है कांग्रेस

1451

आज कल मध्य प्रदेश चर्चा का विषय बना हुआ है. उसका कारण है कि कभी मध्य प्रदेश के मुख्यामंत्री कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच रिश्तों में कुछ खटास नज़र आ रही है. ऐसा इसलिए है क्योकि जबसे कांग्रेस सत्ता में आई है तबसे सिधिंया को ऐसा लग रहा है कि वो अपने अस्तित्व की लड़ाई लड रहे हैं. खबर ये भी आ रही थी की मध्य प्रदेश की कमान सिधिंया को सौंपी जाऐ.लेकिन आलाकमान ने कमलनाथ को मध्य प्रदेश का मुखिया बना दिया. जिसको लेकर दोनो में तबसे अंदरूनी विवाद चल रहा है.

 कांग्रेस सूत्रो की तरफ से खबर आई है कि दो महीने बाद अप्रैल में मध्य प्रदेश से राज्यसभा की तीन सीटें खाली होने जा रही हैं. इनमें से दो कांग्रेस के पास है और एक बीजेपी के पास जायेगी. कांग्रेस की 2 सीटों पर पहले ही दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया और दिग्विजय सिंह की दावेदारी हैं. लेकिन अब कांग्रेस हाईकमान की तरफ से प्रियंका गांधी का नाम भी चर्चा में आ रहा है. ऐसी स्थिति में तीनों दिग्गज नेता में से किसी एक को फिलहाल सदन में जाने का मौका छोड़ना पड़ सकता है. फ़िलहाल मौजूदा वक्त में इन तान सीटों पर दिग्विजय सिंह, प्रभात झा और सत्यनारायण जतिया सदस्य हैं.

 इस साल के अंत तक 2020 में देशभर से राज्यसभा की कुल 68 सीटें खाली हो रही हैं, ऐसे में कांग्रेस को एक बड़ा झटका लग सकता है. उसका कारण है कि  राज्सभा के इस चुनाव में कांग्रेस अपनी कई सीटें गंवा सकती है. वहीं जिस प्रदेश में कांग्रेस पार्टी अपने दम पर या फिर पूरी तरह से सत्ता में है. उन राज्यों से कांग्रेस की नेता प्रियंका गांधी वाड्रा, ज्योतिरादित्य सिंधिया, दिग्विजय सिंह जैसे कई दिग्गजों को कांग्रेस राज्यसभा भेजने पर विचार कर रही है. वहीं प्रियंका गांधी को मध्य प्रदेश राज्य के कोटे से राज्य सभा में भेजने की मांग भी उठ रही है. सीएम कमलनाथ जब दिल्ली आये थे, तब उनके दिल्ली दौरे के दौरान आलाकमान ने चर्चा की है.

अब देखना ये है कि क्या मध्य प्रदेश सरकार और कांग्रेस आलाकमान प्रियांका गाँधी को राज्यासभा भेजने पर क्या  फैसला लेती है. सिंधिया और दिग्गिवजय में कौन जायेगा राज्यसभा ये अब देखने वाली बात होगी.