कांग्रेस नेता ने प्रधानमंत्री को कहा “गंदी नाली”, मचा बवाल

364

संसद का मानसून सत्र चल रहा है. पक्ष और विपक्ष में जमकर बहस हो रही है. कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने संसद में अधिक सक्रीय दिखने के चक्कर में कुछ ऐसे बयान दे दिए हैं जिससे वे विवादों में आ गये हैं. एक बयान के लिए तो सोशल मीडिया पर उन्हें ट्रोल किया गया. दूसरा उन्होंने प्रधानमंत्री के लिए कुछ ऐसे शब्दों का इस्तेमाल किया है कि सदन में शोर शराबा होने लगा.. आइये हम अधीर रंजन चौधरी के संसद में दिए गये विवादित बयानों के बारे में आपको बताते हैं जो उन्होंने सदन के शुरुवाती दिनों में ही दे दिया है.
दरअसल, BJP ने लोकसभा में पहले ये आरोप लगाया था कि कांग्रेस ने तो एक समय में ‘इंदिरा इज इंडिया’ जैसा मौहाल बनाया दिया था. इसपर जवाब देते हुए अधीर रंजन चौधरी सारी मर्यादा ही लांघ गये. और पीएम मोदी के लिए ‘गंदी नाली’ जैसे गंदे शब्द का इस्तेमाल कर बैठे। अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि ‘कहां गंगा मां और कहां गंदी नाली, दोनों की तुलना ठीक नहीं है। यहाँ उन्होंने यहाँ गंगा माँ की तुलना इंदिरा गाँधी से की और गन्दी नाली का तुलना पीएम मोदी से की है. इतना ही इसके आगे चौधरी साहब ने कहा ‘हमारा और मुंह मत खुलवाओ।’ इस पर सदन में जमकर हंगामा हुआ है.


दूसरा उन्होंने सदन में अपने भाषण के दौरान अभिनंदन का जिक्र कर सोशल मीडिया पर ट्रोल हो गये. लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान को अवार्ड दिया जाना चाहिए और उनकी मूंछों को राष्ट्रीय मूंछ घोषित करना चाहिए। सम्मान की बातें तो लोगों को हजम हो गयी लेकिन उनकी मूछों को जन राष्ट्रीय मूछ घोषित करने की मांग की गयी तो सोशल मीडिया अपर लोग भड़क गये.. उनका कहना था कि इसके बाद दाढ़ी कि राष्ट्रीय दाढ़ी घोषित करवाना.. इसके आलवा तुम्हारे पास कोई और काम नही है. दरअसल अभिनन्दन की मूंछे खूब सुर्ख़ियों में थी. अभिनन्दन स्टाइल की मूछे ही उनकी सिंबल बन गयी है. लेकीण राष्ट्रीय मूछ घोषित करने की मांग करना कुछ ज्यादा हो हो गया.. दरअसल लोकसभा चुनाव की सभाओं में अभिनन्दन का नाम खूब सुर्ख़ियों में था.


हालाँकि प्रधानमंत्री मोदी पर विवादित बयान देने के बाद जब बवाल मचा तब लोकसभा से बाहर निकलने के बाद अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि “मैं खुले आसमान के नीचे माफी मांगता हूं। पीएम को ठेस पहुंचाने के लिए नहीं बोला था। मेरी हिंदी ठीक नहीं है।”
अब सोचने वाली बात ये हैं कि प्रधानमंत्री मोदी के लिए कांग्रेस के बड़े से लेकर छोटे नेताओं ने गंदे गंदे शब्दों का इस्तेमाल किया है. गन्दी गालियाँ दी है लेकिन किसी पर कार्रवाई नही हुई है हाँ ये जरूर है कि कांग्रेस को इसका नुकसान झेलना जरूर पड़ा है लेकिन इसके बाद भी कांग्रेस के नेताओं को ये बात समझ नही आ रही है. अब सदन में कांग्रेस के नेता प्रधानमंत्री के लिए फिर विवादित शब्द का प्रयोग किया है जो किसी भी हालात में मर्यादित नही है


कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पश्चिम बंगाल से सांसद अधीर रंजन चौधरी को 18 जून को कांग्रेस ने लोकसभा में अपने नेता के रूप में नामित किया है. जो लोकसभा में 52 कांग्रेस सांसदों का नेतृत्व कर रहे है चौधरी ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे का स्थान लिया, जिन्होंने 16वीं लोकसभा में कांग्रेस के नेता के रूप में कार्य किया था।
वहीँ संसद में बोलते हुए ओडिशा के मोदी कहे जाने वाले केन्द्रीय मंत्री प्रताप चन्द्र सारंगी ने कहा कि कांग्रेस को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पिछले पांच साल के कार्यकाल में किये गये कामकाज की सफलता को स्वीकार कर उनका अभिनंदन करना चाहिए और खुद को जनता द्वारा नकार दिये जाने पर आत्मनिरीक्षण करना चाहिए..