अब कोरोना की वजह से कांग्रेस में पड़ी फूट, कांग्रेस के इस नेता ने कहा सरकार बहुत अच्छा काम कर रही है

288

मोदी सरकार ने जिस तरह से कोरोना से निपट रही है और जिस तरह से इस मोर्चे पर एक्टिव है उसकी पूरे देश में तारीफ़ हो रही है. सरकार ने हालात को बिगड़ने से पहले ही संभाल लिया और इस मोर्चे पर एक्टिव नज़र आई . लेकिन हर महत्वपूर्ण वक़्त पर देश से गायब हो जाने वाले राहुल गाँधी को इसमें भी राजनीति दिख रही है. वो सरकार को कोस रहे हैं कि सरकार कोई कदम नहीं उठा रही है. सरकार कोरोना समस्या को हलके में ले रही है. लेकिन ये दिक्कत सिर्फ राहुल गाँधी के साथ ही है. सिर्फ राहुल गाँधी को ही सरकार एक्टिव नहीं दिख रही, बाकी कांग्रेसी नेताओं के साथ ऐसा नहीं है. कांग्रेस नेता आनंद शर्मा सरकार के एक्शन से काफी खुश और संतुष्ट हैं.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री आनंद शर्मा ने कोरोना वायरस से लड़ने में मोदी सरकार की कोशिशों पर संतुष्टि जताते हुए कहा है- ‘मैं सरकार द्वारा उठाए जा रहे कदमों और कोरोना वायरस को चेक करने के लिए की गई तैयारियों से पूरी तरह से संतुष्ट हूं. देश विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रोटोकॉल को फॉलो कर रहा है, जो इस वायरस से लड़ने के लिए बहुत जरूरी है.’

राहुल गाँधी के साथ समस्या ये है कि जब भी देश किसी मुसीबत में फंसता है या कोई बड़ी घटना होती है तो राहुल गाँधी देश से बाहर हॉलिडे मना रहे होते हैं. ये पहली बार है कि देश कोरोना समस्या से निपट रहा है और राहुल गाँधी देश में ही है. इसकी वजह है मजबूरी. दुनिया के हर देश में कोरोना का कहर है. ऐसे में राहुल गाँधी कहीं छुट्टियाँ मनाने जा नहीं पाए. अब देश में उनका मन लग नहीं रहा. उनका टाइम पास हो नहीं रहा तो वो मोदी सरकार को कोस रहे हैं.

जनवरी में जब कोरोना चीन में तांडव कर रहा था तभी भारत सरकार एक्शन में आ गई थी. वुहान में फंसे भारतीय छात्रों को रेस्क्यू किया गया था और दिल्ली एअरपोर्ट के नजदीक मानेसर में आइसोलेशन कैम्प बनाए गए. चीन के बाद कोरोना ने यूरोप में तांडव मचाया तब भी भारत सरकार ने इटली और इरान से अपने नागरिकों को बाहर निकाला. कई देशों के वीजा सस्पेंड किये गए. कई शहरों में आइसोलेशन कैम्प बनाए गए और देश के कई एयरपोर्ट पर स्क्रीनिंग शुरू की गई. सरकार ने हर संभव कोशिश की ताकि कोरोना देश में ज्यादा न फ़ैल सके. इसका असर भी नज़र आया. इटली जैसे विकसित देश में म’रने वालों की संख्या हज़ार पार गई जबकि भारत में संक्रमित लोगों की संख्या बस 100 तक पहुँच पाई है और मरने वालों की संख्या 2. लेकिन राहुल गाँधी को ये समझ नहीं आएगा. वो तो आज तक खुद को नहीं समझ पाए तो इतनी बड़ी बातें कहाँ से समझ आएगी.