अपनी ही पार्टी से नाराज प्रियंका चतुर्वेदी, कहा- गुंडों को मिल रही तरजीह

248

लोकसभा चुनाव के लिए प्रचार की सरगर्मी के बीच एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है..कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता और बीजेपी सरकार की मुखर आलोचना करने वालीं प्रियंका चतुर्वेदी अपनी ही पार्टी से नाराज चल रही हैं..
टीवी डिबेट्स में कांग्रेस का पक्ष रखने वालीं पार्टी प्रवक्ता Priyanka Chaturvedi ने आरोप लगाया है कि पार्टी में उन गुंडों को तवज्जो दी जा रही है, जो महिलाओं के साथ बदसलूकी करते हैं..उन्होंने इस बात का भी जिक्र किया है कि जिन लोगों ने उन्हें धमकी दी उन्हें पार्टी ने यूं ही छोड़ दिया..
प्रियंका ने ट्वीट किया, और लिखा ”गहरा दुःख पहुंचा है कि गुंडों को कांग्रेस पार्टी में उनसे ज्यादा तरजीह दी जाती है जिन्होंने अपना पसीना और खून पार्टी के लिए बहाया। पार्टी के लिए जिन्होंने ईंट-पत्थर और गालियों तक का सामना किया, लेकिन फिर भी उनपर कोई कार्रवाई नहीं की गई..जो लोग धमकियां दे रहे थे, वह बच गए हैं। इनका बिना किसी कड़ी कार्यवाही के बच जाना काफी निराशाजनक हैं।
आपको बता दें कि प्रियंका चतुर्वेदी ने एक ट्वीट को रिट्वीट करते हुए इस बात को लिखा, इसके साथ एक चिट्ठी भी जुड़ी हुई है..जारी चिट्ठी के अनुसार, उत्तर प्रदेश के मथुरा में जब प्रियंका चतुर्वेदी पार्टी की तरफ से राफेल विमान सौदे पर प्रेस कॉन्फ्रेंस करने आई थीं, तब स्थानीय कार्यकर्ताओं ने उनके साथ बदसलूकी की, इसके बाद सभी पर अनुशासनात्मक कार्यवाही हुई थी।
चिट्ठी के अनुसार, ज्योतिरादित्य सिंधिया की सिफारिश के बाद इन कार्यकर्ताओं को बहाल किया गया है। बता दें कि ज्योतिरादित्य सिंधिया पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव हैं और लोकसभा चुनाव के लिए पश्चिमी उत्तर प्रदेश के प्रभारी हैं। हालांकि इस चिठ्ठी पर तारीख 15 अप्रैल 2015 पड़ी है किंतु इसे clerical mistake(क्‍लैरीकल मिस्‍टेक) माना जा रहा है क्‍योंकि अप्रैल 2015 में न तो राफेल मुद्दा था और न सिंधिया उत्तर प्रदेश के प्रभारी बनाए गए थे।
बता दें कि ये मामला बीते साल सितंबर के आसपास का बताया जा रहा है..जब मथुरा में राफेल मुद्दे को लेकर कांग्रेस प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी। जहां उनके साथ पार्टी के ही कुछ सदस्यों ने दुर्व्यवहार किया। हालांकि, उनकी इस शिकायत के बाद उन सदस्यों को पार्टी से निकाल दिया गया था, लेकिन फिर से उन्हें पार्टी में शामिल करने का पत्र जारी किया गया। इस सभी को ज्योतिरादित्य सिंधिया की सिफारिश के बाद बहाल किया गया है..
प्रियंका चतुर्वेदी इस बात से खासी नाराज हैं। सूत्रों के मुताबिक उन्होंने अपनी नाराजगी से बड़े नेताओं को अवगत भी करवाया है और अब ट्वीट कर सार्वजनिक तौर पर अपनी बात कही है।
प्रियंका चतुर्वेदी का अपनी पार्टी के खिलाफ अचानक इस कदर उबल पड़ना हैरान करने वाला है। इसके अलग-अलग मायने भी निकाले जा रहे हैं। प्रियंका चतुर्वेदी के इस ट्वीट के बाद सवाल उठ रहे हैं कि क्या वे पार्टी छोड़ने वाली हैं? क्या वे कांग्रेस छोड़ बीजेपी या किसी और दूसरी पार्टी में शामिल होंगी? कयासों का बाजार भी गर्म है..बहरहाल इन सभी सवालों के जवाब आने वाले दिनों में प्रियंका चतुर्वेदी ही दे सकती है..