एक्ट के दौरान हो गई स्टैंडअप कॉमेडियन की मौ’त लेकिन दर्शक अभिनय समझ बजाते रहे तालियाँ

बाबू मोशाय, जिंदगी और मौ’त ऊपर वाले के हाथ है जहाँपनाह, जिसे न आप बदल सकते हैं, न मैं। हम सब तो रंगमंच की कठपुतलियाँ हैं, जिनकी डोर उस ऊपर वाले के हाथों में है। कब, कौन, कैसे उठेगा, यह कोई नहीं जानता… राजेश खन्ना की फिल्म आनंद का ये डायलाग सिर्फ एक डायलाग नहीं बल्कि ज़िन्दगी का फलसफा है .

ऐसा ही कुछ देखने को मिला दुबई में जब एक स्टैंडअप कॉमेडियन की मौ’त लाइव शो के दौरान हो गई और दर्शक उसकी परफॉर्मेंस का हिस्सा समझ तालियाँ बजाते रहे . खलीज टाइम्स में छपी रिपोर्ट के मुताबिक भारतीय मूल के कॉमेडियन मंजूनाथ नायडू दुबई के एक होटल अल बरशा में अपनी परफॉर्मेंस दे रहे थे तभी उन्हें दिल का दौड़ा पड़ा . पहले तो मंजूनाथ कुर्सी पर बैठ गए लेकिन थोड़ी ही देर में वो जमीन पर लुढ़क गए . इसी बीच दर्शक इसे उनकी परफॉर्मेंस का हिस्सा समझ कर हँसते रहे और तालियाँ बजाते रहे . जब काफी देर तक मंजूनाथ के शरीर में कोई हलचल नहीं हुई तो उनके सहायक उन्हें उठाने आये लेकिन तब तक मंजूनाथ की मौ’त हो चुकी थी

36 साल के मंजूनाथ का जन्म आबूधाबी में हुआ था लेकिन बाद में वो दुबई में शिफ्ट हो गए . अपने एक्ट के दम पर जल्द ही वो दुबई के मशहूर स्टैंडअप कॉमेडियन बन गए . उनके इस तरह चले जाने से उनके फैन्स गहरे सदमे में है . मंजूनाथ के माता पिता की पहले ही मौ’त हो चुकी है .परिवार में उनका सिर्फ एक भाई है लेकिन मौत वाले दिन वो भी शहर में नहीं था . सोशल मीडिया पर मंजूनाथ के चाहने वाले उनके लिए श्रधांजलि पोस्ट कर रहे हैं .

वाकई में किसे कब और कहाँ मौ’त आ जाए कोई नहीं कह सकता और मौत भी ऐसी कि लोग उसे अभिनय समझ कर तालियाँ बजा रहे थे.

Related Articles