कोस्टगार्ड ने पकड़ी पाकिस्तानी बोट, 500 करोड़ की हेरोइन बरामद, 6 लोग गिरफ्तार

399

पाकिस्तान और हिंदुस्तान के बीच के रिश्ते आजकल कुछ आचे नहीं चल रहे है..और कारण ये है कि पाकिस्तान अपनी कायराना हरकतों से बाज़ नहीं आ रहा है..इसलिए पाकिस्तान के उपर हमारे सेनाओं ने अपनी बड़ी पैनी नजर रखी हुई है..जिससे उसकी कायराना हरकतों को वो हर बार मुह तोड़ जबाव देते है.. पाकिस्तान से लगने वाली समुद्री सीमा पर इंडियन कास्ट गार्ड ने एक बड़ी सफलता हासिल की है  पाकिस्तान की एक बड़ी  साजिश को नाकाम करके.

दरअसल इंडिया कोस्ट गार्ड ने गुजरात कच्छ, के जखौव के पास से एक पाकिस्तानी बोट य अलमदीना को अपने कब्जे में लिया है ,जिस बोट में ड्रग्स लदा हुआ था, जिसमें ड्रग्स के 194 पैकेट पाए गए है, और अगर उसकी इंटरनेशनल बाजार में अनुमान की गये कीमत कम से कम 400 से 500 करोड़ रूपये तक बताई जा रही है.

आपको बता दे कि इस नशे की खेप की को भारत लाया जा रहा था, कोस्ट गार्ड की टीम ने खेप के साथ साथ 6 पाकिस्तानी नागरिकों भी गिरफ्तार किया जो ये ड्रग्स भारत ला रहे थे  और कोस्टगार्ड ने ये भी अंदेशा लगाया है कि इस नशे की खेप को कच्छ के जखौव समुद्री तट पर डिलेवर किया जाना था,और मौके पर ही  ड्रग्स डिटेक्शन किट की मदद से किए गए परीक्षण में ये सामने आया है कि इस में नार्कोटिक्स भी है.

आजतक की एक रिपोर्ट की माने तो इंडियन कोस्टगार्ड के अनुसार दो दिन पहले नेशनल टेक्निकल रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन और डिआराई यानि डायरेक्टरेट ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस से एक इनफार्मेशन मिली थी कि पाकिस्तान से फिशिंग बोट के जरिये भारत में ड्रग्स लाए जा सकता है. इसे इनफार्मेशन को बड़ी गंभीरता से लेते हुए  कोस्टगार्ड ने जखौव के पास अंतरराष्ट्रीय जल सीमा में एक पेट्रोलिंग बोट ओर दो इन्टरसेप्ट बोट तैनात की थी जिसके बाद सर्च ऑपरेशन को बड़े पैमाने पर शुरू कर दिया था…और इन्ही दो इंटरसेप्ट बोट की मदद से ही पाकिस्तानी बोट अलमदीना को देखा जा सका और देखते ही भारतीय दल ने इसे भारतीय जल सीमा वाले क्षेत्र में ही धर दबोच लिया.

क्यों की ये अंतरराष्ट्रीय जल सीमा है ,तो यहाँ पर सर्च ऑपरेशन को बड़े पैमाने पर करने के लिए कास्ट गार्ड के टीम ने बड़ी मेहनत की थी..तभी जाकर इस पाकिस्तानी बोट और उसमें सवार 6 नागरिकों को पकड़ा गया.सूत्रों के अनुसार पकड़ी गई पाकिस्तानी बोट के साथ एक भारतीय बोट भी हिरासत में ली गयी है और ऐसी आशंका जताई जा रही है कि ये बोट पाकिस्तानी बोट की मदद के लिए वहां पर मौजूद थी, वैसे कोस्ट गार्ड ने इस भारतीय बोट को भी पकड़ लिया और इस बोट पर भी 13 लोग सवार थे, जो सभी भारतीय बताए जा रहे हैं, अब इस पूरे ऑपरेशन में इन लोगों की क्या भूमिका की क्या भूमिका रही है इसकी भी बारीकी से जाँच पड़ताल चल रही है.

और यहाँ आपको हम ये भी बता दें कि इससे पहले भी 27 मार्च 2019 को गुजरात एटीएस यानि गुजरात Anti-Terrorism Squad ओर कोस्ट गार्ड ने समुद्र तट से ही एक पाकिस्तानी बोट से 500 करोड़ रूपये की हेरोइन और उसके साथ साथ 9 विदेशी ड्रग्स तस्करों को भी गिरफ्तार किया था…पर इस ऑपरेशन के दौरान में ड्रग्स माफियाओं ने अपनी ही बोट को आग लगा दी थी,और बताया तो ये भी जा रहा था कि बोट में भरी ड्रग को पाकिस्तान के हमीद मलिक द्वारा भेजा गया था.

इन दोनों केसों के बाद से ही इंडियन कोस्टगार्ड टीम लगातार अपने ऑपरेशन में लगी हुई थी..और इन्ही ऑपरेशन के माध्यम से वो उन ड्रग्स तस्करों के नेटवर्क का पता लगाने की भी कोशिश कर रही है ताकि इन की जड़ तक पहुच कर इन्हें ख़त्म कर सके..और अगर देख जाये तो इस साल ये दूसरा ऑपरेशन है जिसको इंडिया कोस्ट गार्ड ने बखूबी अंजाम देकर दबोचा हो..इसके लिए इनकी जितनी तारीफ की जाये वो कम है.कभी समुद्री सीमा के रास्ते ही पाकिस्तान से कसाब और उनके साथी आये थे जिन्होंने मुंबई में कहर बरपाया था , उसके बाद से कोस्ट गार्ड अतिरिक्त सतर्कता बरतती है ताकि ऐसी घटनाओं को रोका जा सके.. इसी सतर्कता का परिणाम है ड्रग्स की बड़ी खेप का पकड़ा जाना