सीएम योगी आदित्यनाथ ने गरीब और अनाथ बच्चों को लेकर किया शानदार ऐलान, जानकर हर किसी को गर्व होगा !

देश में कोरोना का संकट लगातार बरकरार है. हर दिन करीब 10 हजार मरीज बढ़ने के साथ अब देश में कुल मरीजों की संख्या 2 लाख 97 हजार के पार हो चली है. ऐसे में सरकार जनता को लेकर कई बड़ी चुनौती सामने हैं.

जानकारी के लिए बता दें कोरोना महामारी के चलते उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक के बाद एक बड़े कदम उठाए हैं. उन्होंने राज्य के गरीब और मजदूर वर्ग के लोगों को सहायता देने के लिए सीधे खाते में आर्थिक सहायता दी थी. इसी बीच उन्होंने गरीब बच्चों को लेकर भी बड़ा ऐलान किया है.उत्तरप्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ अब सूबे के यनाथ और असहाय बेसहारा गरीब बच्चों के लिए अभिवाहक की तरह मदद के लिए हाथ आगे बढ़ाएंगे. दरअसल सीएम योगी ने यूपी में बालश्रम के चलते स्कूल नही पहुंच पाए 8-18 साल के बच्चों के लिए बाल श्रमिक विद्या योजना की शुरुआत की है.

सीएम योगी ने ऐलान करते वक्त कहा कि आज का दिन बहुत महत्वपूर्ण है. अंतर्राष्ट्रीय बाल श्रम निषेध दिवस के अवसर पर इस बात का संकल्प लें कि अगर किसी परिवार को जो इस श्रेणी में आ रहा है और जिन बच्चों का हम यहां सिलेक्शन करने जा रहे हैं. उन्हें तमाम सरकारी योजना और सुविधाओं से आच्छादित करवा सकें ताकि इन लोगो को भी शासन की योजनाओं और सुविधाओं का लाभ मिल सके.

गौरतलब है कि अटल आवासीय योजना के तहत बालश्रम उन्मूलन के लिए 8-18 साल के बच्चों को योगी सरकार पढ़ाई करवाने में मदद करेगा. साथ ही इन्हें अटल आवासीय योजना के तगत दाखिल भी मिलेगा. सीएम योगी ने ऐलान किया है कि बालकों को 1000 रुपये प्रतिमाह और बालिकाओं को 1200 रुपये हर माह दिये जायेंगे. इतना ही नही कक्षा 8,9 और 10 वीं में पढ़ने वाले बच्चों को इस प्रोत्साहन राशि के अलावा 6000 रुपये वार्षिक राशि दी जाएगी.