गुजरात और बंगाल पर वरिष्ठ इतिहासकार रामचंद्र गुहा ने की ऐसी टिप्पणी,सीएम रूपाणी ने दिया मुहंतोड़ जवाब

148

देश मौजूदा समय कोरोना सं’कट की भयावय स्तिथि से गुज़र रहा हैं. लेकिन देश में राजनीति कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. अब बंगाल और गुजरात के इतिहास को लेकर दो अलग-अलग छेत्रों के दिग्गजों  के बीच बहेस छिड गई है. बहेन वरिष्ठ इतिहासकार राम चन्द्र गुहा और गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी के बीचबंगाल और गुजरात के इतिहास को लेकर वरिष्ठ इतिहासकार रामचंद्र गुहा ने विदेशी लेखक के हवाले से एक टिप्पणी की है. जिसको लेकर गुजरात के सीएम विजय रूपाणी ने मोर्चा संभाला हैं.

दरअसल, इतिहासकार गुहा ने ब्रिटिश लेखक फिलिप स्प्राट की 1939 में की गई एक टिप्पणी को उद्धृत करते हुए कहा, ‘गुजरात हालांकि, आर्थिक रूप से काफी आगे है लेकिन सांस्कृतिक रूप से एक पिछड़ा राज्य है जबकि इसके विपरीत, बंगाल आर्थिक रूप से काफी कमजोर है लेकिन सांस्कृतिक रूप से काफी उन्नत है.’ रामचंद्र गुहा के इस ट्वीट पर गुजरात के सीएम विजय रुपाणी ने सिर्फ आपत्ति ही नहीं जताई है बल्कि उन्होंने उनको आड़े हाथो लेते हुए ये कहा कि गुहा फूट डालने वाले अंग्रेज की तरह हैं.

वरिष्ठ इतिहासकार रामचंद्र गुहा के बंगाल और गुजरात के इतिहास को लेकर जो ट्वीट किया था उसपे गुजरात के सीएम विजय रूपाणी रिट्वीट करते हुए कहा कि ‘पहले अंग्रेज थे जो फूट डालकर राज्य करना चाहते थे और अब ये इलीट बुद्धिजीवों का ग्रुप है. जो अब भारतीयों को बाटने की कोशिश कर रहा हैं. विजय रूपाणी ने कहा कि ‘भारतीयों को इनकी चाल में नहीं फसना चाहिए. रुपाणी ने आगे कहा, ‘गुजरात महान है, बंगाल महान है.. भारत एकजुट है. हमारी सांस्कृतिक बुनियाद मजबूत है और हमारी आर्थिक महत्वाकांक्षाएं बहुत ज्यादा हैं.’