बिहार की राजनीति में मची हलचल, नीतीश कुमार की बात सुनकर सन्न रह गए प्रशांत किशोर

1823

बिहार विधानसभा चुनाव से पहले बिहार की राजनीति में तूफ़ान मच गया है. मोदी-शाह और CAA को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और जेडीयू उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर के बीच महाभारत मच गया है. और इस महाभारत के बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रशांत किशोर के बारे में बड़ी बात कह दी.

आपको बता दें कि जेडीयू ने CAA के मुद्दे पर संसद के अन्दर सरकार को अपना समर्थन दिया था. लेकिन पार्टी के उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर खुल कर CAA की खिलाफत कर रहे हैं और मोदी-शाह के खिलाफ लगातार बयानबाजी कर रहे हैं. यही नहीं, प्रशांत किशोर विपक्षी पार्टियों को ये सलाह भी दे रहे हैं कि CAA के खिलाफ सामूहिक रूप से सड़क पर उतरना चाहिए. ये सब तब हो रहा है जब बिहार में भाजपा और जेडीयू साथ मिलकर चुनाव लड़ने वाली है और नीतीश कुमार को खुद अमित शाह ने चेहरा घोषित कर दिया है.

नीतीश कुमार ने एक प्रेस कांफ्रेंस में आज कहा कि, ‘कोई चिट्ठी लिख रहा है, कोई ट्वीट कर रहा है तो इसमे मैं क्या कर सकता हूँ. कोई पार्टी में तब ही रह सकता है जब तक वो रहना चाहे. वो जब चाहे जा सकता है. क्या आप जानते हैं उन्होंने (प्रशांत किशोर) पार्टी कैसे ज्वाइन किया था? अमित शाह ने कहा था कि उसे पार्टी में लो तो हमने ले लिया.”

नीतीश कुमार के बयान के बाद ये साफ़ हो चूका है कि अब नीतीश और प्रशांत के बीच दरारें इतनी बढ़ चुकी है जिसे पाटना मुमकिन नहीं. नीतीश के बयान पर पलटवार करते हुए प्रशांत किशोर ने कहा, ‘नीतीश जी को जो कहना था कह दिया. आपको मेरे जवाब का इंतज़ार करना होगा. मैं बिहार वापस आ कर उन्हें जवाब दूंगा.’