महाराष्ट्र की राजनीति में मची ह’लचल, राहुल गाँधी के ब’यान से उठे कई सवाल

2016

महाराष्ट्र की राजनीति में एक बार फिर से उ’थल पु’थल चालू हो गयी है. दरअसल इन दिनों महाराष्ट्र कोरोना वायरस का सबसे बड़ा ग’ढ़ बना हुआ है. जिसकी वजह से वहां पर स्थि’ति काफी ज्यादा ख़राब है. ऐसे सं’कट के समय में महाराष्ट्र की राजनीति में उ’थल पुथ’ल होना कई सवाल कड़े करता है.

बता दें महाराष्ट्र में शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस की सं’युक्‍त सरकार है. और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे है. और इसी के बीच सरकार में कुछ हलच’ल चालू हुई है. जिसके बाद कांग्रेस नेता राहुल गाँधी ने कहा है कि कांग्रेस पार्टी महाराष्‍ट्र में सरकार का साथ तो दे रही है मगर ‘की डि’सिजन मेक’र ‘ नहीं हैं. जब महाराष्ट्र में इतना बड़ा सं’कट मं’डरा रहा है. ऐसे में राहुल गांधी का ये कहना अपने आप में सवाल खड़े कर रहा है.

दरअसल मंगलवार को हुई प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में राहुल गाँधी ने कहा कि हम महाराष्‍ट्र में सरकार को सपो’र्ट कर रहे हैं मगर वहां ‘की डि’सिजन मेक’र’ नहीं है. हम पंजाब, छत्‍तीसगढ़, राजस्‍थान, पुदुचेरी में ‘की डि’सिजन मे’कर’ हैं. सरकार चलाने और सरकार का सपो’र्ट करने में फ’र्क होता है.

तो वही महाराष्‍ट्र कांग्रेस चीफ और सरकार में मंत्री बालासाहेब थोराट ने कहा कि कांग्रेस ना’खुश नहीं हैं. सभी तीन पार्टियां हर सप्‍ताह मीटिंग करती हैं जिसमें फैसले किए जाते हैं. सब पार्टियां मिलकर काम कर रही है. अब दोनों ही बया’न में काफी फ’र्क है. एक तरफ राहुल गाँधी ने इ’शारा देते हुए कहा है कि वो डिसिज’न मे’कर ने है वही दूसरी तरफ थोराट का ब’यान है.

गौरतलब है आने वाले दिनों में ये तो पता चल जायेगा कि इसके बया’न में कितनी सच्चा’ई है. लेकिन सवाल ये है कि अचानक सरकार में उ’थल पु’थल होने का कारण डिसिज’न मे’कर न होना ही तो नहीं है.