सिद्धू के सितारे गर्दिश में, आलाकमान ले सकता है कोई बड़ा फैसला

313

क्रिकेट के मैदान से सियासत में आये नवजोत सिंह सिद्धू के सितारे इन दिनों गर्दिश में चल रहे हैं. लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को मिली करारी हार के लिए सिद्धू को भी जिम्मेदार ठहराया जा रहा है और उनपर कारवाई करने की मांग आलाकमान से की जा रही है. पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह भी चाहते हैं कि सिद्दू पर कारवाई की जाए और उनके पर कतरे जाएँ. अमरिंदर की ,मांग जायज भी है. हाल के दिनों में कई मुद्दों पर कैप्टन और सिद्धू के बीच तनातनी देखने को मिली.

अमरिंदर सिंह को लगता है कि सिद्धू की वजह से पंजाब के साथ साथ अन्य राज्यों में भी पार्टी को नुक्सान हुआ है. बकौल कैप्टन – कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि सिद्धू स्थानीय निकाय मंत्री है लेकिन वो अपने विभाग को ठीक से संभाल नहीं पाए. अर्बन क्षेत्रों में सिद्धू ने अच्छा काम नहीं किया जिस कारण हमें ग्रामीण वोट तो मिले लेकिन अर्बन वोट नहीं मिले . कैप्टन आलाकमान से सिद्धू का विभाग बदलने की बात भी करने वाले हैं . मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को लगता है कि पाकिस्तान जा कर जनरल बाजवा को गले लगान, पुलवामा हमले के बाद खुल कर पाकिस्तान का बचाव करना, एयर स्ट्राइक पर सबूत मांगना और पीएम मोदी पर व्यक्तिगत हमले करना पार्टी को नुकसान पहुंचा गया.

सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर को टिकट नहीं मिलने के कारण सिद्धू खुले तौर पर नाराजगी जाता रहे थे. साथ भी नवजोत कौर ने बयान दिया था कि अगर पंजाब में पार्टी सभी 13 सीटें नहीं जीतती तो कैप्टन साहब को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफ़ा दे देना चाहिए . अब राज्य नेतृत्व को लगता है कि सिद्धू को पंजाब की राजनीति से दूर नहीं रखा गया तो वो कांग्रेस को आने वाले समय में काफी नुकसान पहुंचा देंगे .

इसके अलावा इन दिनों सिद्धू अपने ही एक बडबोलेपन वाले बयान की वजह से सुर्ख़ियों में है. चुनावों के दौरान सिद्धू ने कहा था कि राहुल गाँधी को कोई नहीं हरा सकता, अगर वो अमेठी से हार गए तो मैं संन्यास ले लूँगा. स्मृति इरानी ने राहुल गाँधी को अमेठी से हरा दिया और अब सिद्धू पर दवाब पड़ रहा है अपने कहे पर अमल करने के लिए. 23 मई को जैसे ही राहुल गाँधी के हार की खबर आई ट्विटर पर सिद्धू ट्रेंड करने लगे और लोग उन्हें राजनीति से संन्यास लेने के लिए कहने लगे .

पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान के समर्थन में बयान देने के कारण सिद्धू को कॉमेडियन कपिल शर्मा के शो से बाहर कर दिया गया था. लेकिन शो से बाहर होने के बाद सिद्धू ने अपनी कॉमेडी राजनीतिक मंचो पर शुरू कर दी. सिदू ने कॉमेडी और राजनीति का ऐसा कॉकटेल शुरू किया जो उनके लिए ही अब मुसीबत बनता जा रहा है . पंजाब में कैप्टन और सिद्धू के बीच की तनातनी से आलाकमान भी अनभिज्ञ नहीं है. आलाकम ने राज्य इकाई से स्थिति पर रिपोर्ट मांगी है. पार्टी के कई नेता भी इस मामले में कैप्टन के साथ खड़े हैं. अब देखना है कि सिद्धू की किस्मत का क्या फैसला होता है.