हैदराबाद एनकाउंटर पर बोले CJI, मचा है पूरे देश में बवाल

3859

हैदराबाद में महिला डॉक्टर के साथ किये गये घिनौने वारदात के बाद चारो आरोपियों को पुलिस ने एक एनकाउंटर में मार गिराया था. इसके बाद देश में एक बहस छिड़ गयी थी क्या अब इसी तरह सजा दी जाएगी. वहीँ कुछ लोग हैदराबाद पुलिस द्वारा उठाये गये इस कदम की सराहना करते हुए भी पाए गये. हालाँकि अब इस पूरे मामले पर सुप्रीम कोर्ट के मुख्य जज ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है.

दरअसल जब हैदराबाद के आरोपियों का एनकाउंटर किया गया. तो देश के लोगों की दो भागों में बंट गयी. इसके बाद कुछ लोगो हैदराबाद पुलिस के समर्थन में खड़े हो गये तो कुछ लोगों ने हैदराबाद पुलिस पर सवाल खड़ा किया. एस ए बोबडे ने कहा है कि बदले की भावना वाला न्याय अपना मूल चरित्र खो देता है. चीफ जस्टिस ने कहा कि अगर बदला लेना न्याय है तो यह न्याय नहीं है. हालांकि CJI ने सीधा किसी घटना का जिक्र नहीं किया लेकिन उनके बयान को हैदराबाद काण्ड से जोड़ कर देखा जा सकता है.

सीजेआई ने कहा, ‘देश में हाल की घटनाओं ने नए जोश के साथ पुरानी बहस छेड़ दी है. इसमें कोई शक नहीं है कि आपराधिक न्याय प्रणाली को अपनी स्थिति पर पुनर्विचार करना चाहिए और आपराधिक मामलों को निपटाने में ढिलाई के रवैये में बदलाव लाना चाहिए. राजस्थान हाईकोर्ट की नई इमारत के उद्घाटन समारोह में पहुंचे CJI एस ए बोबड़े ने कहा कि मैं नहीं समझता हूं कि न्याय कभी भी जल्दबाजी में किया जाना चाहिए, मैं समझता हूं कि अगर न्याय बदले की भावना से किया जाए तो ये अपना मूल चरित्र खो देता है

दरअसल हैदराबाद में चार दरिंदों ने एक महिला डॉक्टर के साथ हैवानियत की सारी हदें पार करते हुए उसके साथ बलात्कार किया, उसके बाद फिर तेल डालकर जला दिया. उन चारो आरोपियों को उसी जगह ले जाया गया था, जहाँ पर उन्होंने इस घटना को अंजाम दिया था. वहीँ से ये चारों भागने की कोशिश कर रहे थे, इसके बाद पुलिस एनकाउंटर में मारे गये थे.