नागरिकता संशोधन से इतने दुखी हो गये इमरान खान? देखिये क्या बोल गये

नागरिकता संशोधन विधेयक लोकसभा में पास हो चुका है. इस बिल की वजह से देश के कई हिस्सों में बवाल मच रहा है. दरअसल इस बिल के जरिये सरकार ने उन लोगों को भारत की नागरिकता देने की बात कही जो मुस्लिम नही है और पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में हुए अत्याचार के बाद भारत में आकर रह रहे हैं. ऐसे में जब ये बिल लोकसभा में पास हुआ तो पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान इस दर्द को छुपा नही पाए.

दरअसल भारत में कुछ लोग और पार्टियां इस बिल का विरोध कर रही है और हमेशा की तरह इस बार भी पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने इसका पूरा साथ दिया है. धारा 370 हटाए जाने का विरोध करने के अलावा अब विरोध करने के लिए एक और मुद्दा पाकिस्तान को मिल गया है. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने लोकसभा में पास हुए नागरिकता संशोधन विधेयक का विरोध करते हुए twiiter पर लिखा है कि

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने ट्वीट कर लिखा, ‘भारत की लोकसभा द्वारा जो नागरिकता बिल पास किया गया है, उसका हम विरोध करते हैं. ये कानून पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय समझौते और मानवाधिकार कानून का उल्लंघन करता है. ये राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के हिंदू राष्ट्र का एजेंडा है जिसे अब मोदी सरकार लागू कर रही है.’

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और भारत की कुछ पार्टियों ने इस बिल का विरोध किया है. कुछ जगहों पर हंगामा हो रहा है. इसे मुस्लिम विरोधी बताया जा रहा है लेकिन अमित शाह ने सदन में कहा था कि ये बिल मुसलमानों के विरोध में 0.001 प्रतिशत भी नही है.

भारत सरकार जो नागरिकता संशोधन बिल लाई है, उसके तहत पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आने वाले हिंदू, बौद्ध, जैन, पारसी, सिख, ईसाई शरणार्थियों को भारत की नागरिकता मिलने में आसानी होगी. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की ओर से कहा गया है कि पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान के कानून में वह इस्लामिक देश हैं, इसलिए वहां मुस्लिम अल्पसंख्यक नहीं हैं. इसलिए उन्हें इस बिल में शामिल नहीं किया गया है.

Related Articles