इस पोलिंग सेंटर पर है मात्र एक वोटर,वोट लेने के लिए पूरा दिन पैदल चलते हैं चुनावकर्मी

507

पूरे देश में चुनाव की तारीखों का ऐलान हो चुका है। पूरा देश चुनावी रंग में रंगा हुआ है। नेताओ का इधर से उधर पलटी मारने,बड़बोले बयान देने और आरोप प्रत्यारोप का सिलसिला भी शुरू हो चुका है।
सरकार और चुनाव आयोग की तरफ से कह दिया गया है कि प्रत्येक देशवासी को वोट डालने के लिए प्रेरित करने के लिए वो हर सम्भव कोशिश करेंगे। शायद यही वजह है कि चुनाव आयोग भी काफी मेहनत करने में जुटा हुआ है,जिन रास्तों पर पहुँचना भी काफी मुश्किल है.


वहां वोटिंग की व्यवस्था कराई जा रही है। कुछ पोलिंग बूथ तो ऐसे है जहां मतदाताओ की संख्यां भारी तादाद में है। वही कुछ पोलिंग पर मतदाताओ की संख्या बहुत कम है।
देश में एक ऐसा एक पोलिंग सेंटर भी है जिसपर सिर्फ एक मतदाता वोट देता हैं और वहां पहुंचने का रास्ता भी काफी दिक्कतों भरा है.आख़िर कैसी है वो जगह और क्या क्या दिक्कतें फेस करनी पड़ती है चलिये आपको बताते हैं।

ये पोलिंग स्टेशन अरुणाचल प्रदेश के अनजॉ जिले में है, जो भारत-चीन बॉर्डर के पास है.
दिलचस्प बात ये है कि इस कठिन स्थान तक पहुंचने के लिए चुनाव आयोग की टीम को बीहड़ और दुर्गम स्थानों से होते हुए करीब एक दिन तक पैदल चलना पड़ता है.  

शायद आप चौंक भी जाएं कि जिस बूथ तक पहुँचने के लिए इतनी मेहनत की जाती है वहां कोई पंद्रह बीस हजार वोटर नही है बल्कि सिर्फ एक वोटर है जो अपने मत का इस्तेमाल करती है।

दरअसल अनजॉ जिले के मालोगम गांव में अपने परिवार के साथ रहने वाली इस महिला का नाम है सोकेला तयांग. सोकेला ही वो महिला हैं, जिनके लिए आयोग की पूरी टीम वहां पोलिंग स्टेशन तैयार कर रही है.

आयोग की टीम उस अकेली वोटर को वोट डलवाने के लिए वहां पूरा पोलिंग स्टेशन तैयार करते हैं. इसी अकेली महिला के लिए पूरे दिन पोलिंग स्टेशन पर लोग रहते हैं,बाकायदा मतदाता का इंतजार भी करते हैं. आपके लिए यहां ये जानना बहुत ज़रूरी है कि इस बार पहले चरण में अरुणाचल प्रदेश में मतदान होगा।