गलवान घाटी में हुई झ’ड़प में मा’रा गया चीन का कमांडिंग ऑफिसर, चीन को भारी नु’कसान, हेलिकॉप्टरों से…

1507

सोमवार को गलवान घाटी में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई झ’ड़प में चीन को भारी नु’कसान उठाना पड़ा है. चीन के करीब 40 सैनिक मा’रे गए है या घा’यल हैं. म’रने वालों में चीन का कमांडिंग अफसर भी शामिल है. चीनी मीडिया में ख़ामोशी छाई हुई है. चीनी मीडिया ने मंगलवार को माना था कि चीन को भारी नुकसान हुआ है लेकिन घा’यलों या मृ’त सैनिकों की संख्या जारी नहीं की जा रही. लेकिन LAC पर जिस तरह से चीनी हेलिकॉप्टर अपने घा’यल और मृ’त सैनिकों को एयरलिफ्ट कर रहे थे, उससे चीन को हुए नु’कसान का अंदाजा लगाया जा सकता है.

सूत्रों के मुताबिक़ चीन का एक कमांडिंग अफसर भी इस झड़प में मा’रा गया. ये वही कमांडिंग अफसर था जो चीन की तरफ से झ’ड़प की अगुआई कर रहा था. बातचीत करने आई टीम पर चीनी सैनकों ने धोखे से ह’मला कर दिया जिसमे भारत के कमांडिंग अफसर समेत 20 जवान शहीद हो गए. करीब 45 मिनट बाद भारतीय सैनकों ने पलटवार किया और चीन को भारी नु’कसान पहुँचाया. चीनी सेना को उम्मीद नहीं थी कि भारत की तरफ से ऐसा पलटवार आएगा. जब झ’ड़प ख़त्म हुई तो चीनी सेना के हेलिकॉप्टर, एम्बुलेंस और स्ट्रेचर जिस तरह से चीन के घा’यलों और मृ’त सैनिकों को हटा रहे थे. उससे चीन को हुए नु’कसान का अंदाजा आसानी से लगाया जा सकता है.

वामपंथी तानाशाही देश चीन में मीडिया पर पाबंदी है. ग्लोबल टाइम्स सरकारी अखबार है और चीन सरकार का मुख्यपत्र भी है. ग्लोबल टाइम्स ने भी माना कि चीन को भारी नु’कसान हुआ है. लेकिन ग्लोबल टाइम्स ने संख्या बताने से साफ़ इनकार कर दिया. जिस तरह से चीनी मीडिया में खामोशी उससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि अपनी फजीहत को छुपाने के लिए चीन अपने मृ’त सैनिकों का आंकड़ा जारी नहीं कर रहा.