भारतीय सेना के तेवर देख कर लद्दाख में गलवान घाटी से 2 किलोमीटर पीछे हटी चीनी सेना

5077

लद्दाख के पैंगोंग सो झील पर कब्ज़ा करने की ताक में बैठी चीनी सेना की हिम्मत भारतीय सेना के तेवर देख कर ढीली पड़ने लगी है. रणनीतिक महत्त्व वाली गलवान घाटी में चीनी सैनिक करीब 2 किलोमीटर पीछे चले गए है. दोनों देशों में तनाव कम करने को लेकर कई स्तर की बातचीत हो चुकी है. 6 जून को भी दोनों देशों के अधिकारियों के बीच बैठक होने वाली है उससे पहले चीन ने नरमी के संकेत दिए हैं. गौरतलब है कि पैंगोंग सो झील के फिंगर फोर इलाके में कई हफ्ते से दोनों देशों की सेना एक दूसरे के सामने डटी हुई हैं. आज तक की रिपोर्ट के मुताबिक़ गलवान घाटी से चीनी सैनिक करीब 2 किलोमीटर पीछे हटे हैं. जबकि भारतीय सैनिक 1 किलोमीटर पीछे हटे हैं

चीन ने LAC पर बड़ी संख्या में अपनी फ़ौज को जमा कर रखा है और भारी हथियार और तोप भी उसने जमा करने शुरू कर दिए हैं. चीन की किसी भी दुस्साहस का मुंहतोड़ जवाब देने के लिए भारत ने भी लद्दाख में विभिन्न मोर्चों पर अपने सैनिकों की संख्या में बेतहाशा वृद्धि की है. इसके अलावा भारत ने भी भारी हथियार LAC पर भेज दिया है. बीते दिनों LAC पर चीनी लड़ाकू विमान मंडराते देखे गए थे जिसके बाद भारत ने भी नजदीकी एयबेस पर सुखोई लड़ाकू विमान को तैनात कर दिया है.

हालाँकि गलवान घाटी से चीनी सैनिकों के पीछे हटने के बावजूद भारतीय सैनिक पूरी तरह से चौकन्नी हैं क्योंकि चीन की मक्कारी से सभी अच्छी तरह से परिचित हैं भारतीय सेना इस बात पर नज़र रखे हैं कि कहीं गलवान घाटी से पीछे हटकर चीन कोई नई चाल तो नहीं चल रहा. लद्दाख में भारतीय इलाके में भारत सड़क निर्माण कर रहा है जिसपर चीन ने आपत्ति जताई है. लेकिन भारत ने साफ़ कर दिया है कि वो अपने इलाके में किसी भी तरह के निर्माण को नहीं रोकेगा. उसके बाद चीनी सैनिकों ने वहां अपने तम्बू गाड़ दिए जिसके जवाब में भारतीय सेना ने भी ठीक सामने अपना खूंटा गाड़ दिया .