अब दुबारा बदतमीजी पर उतरा चीन, बॉर्डर से आया ऐसा बयान

1360

भारत और चीन वैसे तो एक दुसरे के पडोसी है लेकिन इसके बाद भी दोनों की कभी भी आपस में बनती नही है और इसके पीछे की सबसे बड़ी वजह है चीन की विस्तारवादी नीति जिसके आगे दुसरे छोटे मोटे देश झुक जाते है लेकिन भारत चीन को धकेल ही देता है. मगर जब चीन कुछ कर नही पाता है तो फिर उस वक्त वो बदतमीजी और बदजुबानी पर उतर आता है और इन दिनों बॉर्डर पर कुछ ऐसा ही हुआ है जिसके कारण आने वाले दिनों में एक बार फिर से कुछ हद तक संघर्ष देखने को मिल सकता है.

गोगरा पोस्ट पर चीन का पीछे हटने से इनकार, कहा जो मिला उसी में खुश रहे भारत
भारत ने अपने बल से और कही कही पर डिप्लोमेटिक तरीके से भी धीरे धीरे करके चीन की सेना को पीछे धकेल दिया है लेकिन अभी भी कुल मुख्य तीन जगहों देप्सांग, हॉट स्प्रिंग और डोगरा पोस्ट पर से चीन पीछे हटने में नखरे दिखा रहा है और कह रहा है कि भारत को जो मिला है उसी में वो खुश रहे है. कही न कही ये चीन की बदजुबानी की तरह देखा जा रहा है और अगर ऐसा चलता है तो फिर भारत को बल पूर्वक चीन को पीछे धकेलना पड़ेगा.

आपको शायद पता न हो तो चीन न सिर्फ स्थानीय इलाको में बल्कि समुद्री इलाको जैसे हिन्द महासागर और साउथ चाइना सी में भी अपने सैनिको की तैनाती काफी अधिक तीव्रता के साथ में बढ़ा रहा है और ये एक ऐसी स्थिति है जिसमे वो बहुत ही बुरी तरह से परेशान से रह रहे है क्योंकि भारत और अमेरिका जैसे देश इसे बहुत ही अच्छे से काउंटर कर रहे है और इसमें तनाव तो होना लाजमी ही है.

हाँ मगर जब चीन बदजुबानी पर ही उतर आता है तो फिर क्या कह सकते है? ऐसे में भारत जैसा डिप्लोमेटिक देश इन बातो को ज्यादातर इग्नोर करना ही बेहतर समझता है क्योंकि किसी की भाषा का स्तर गिर गया हो तो उसके पीछे खुदको नही गिराया जा सकता.