गलवान घाटी में मक्कारी दिखाने के दो दिन बाद चीन ने खोला मुंह और दिया ये बयान

2862

गलवान घाटी में मक्कारी दिखाने के बाद अब चीन ने पहली बार आधिकारिक बयान दिया है और भारत पर कई आरोप लगाने के बाद शांति की बात की है. साथ ही चीन ने गलवान घाटी पर अपना दावा भी जताया है. चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने कहा कि गलवान घाटी की संप्रभुता हमेशा से चीन से जुडी रही है. चीन नहीं चाहता कि आगे किसी भी तरह की झ’ड़प हो. झाओ लिजियन ने भारत पर उल्टा आरोप लगाते हुए कहा, ‘कमांडर स्तर की बातचीत और उसपर सहमती के बाद भी भारत ने सीमा को पार किया.

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि ‘हम भारत को सलाह देते हैं कि वो अपने सैनिकों को अनुशासन में रखे और उकसावे वाली गतिविधि को रोके और चीन के साथ मसलों का शांतिपूर्ण समाधान करे. हम भारत को बातचीत के माध्यम से मतभेदों को सुलझाने के लिए सही रास्ते पर वापस आने के लिए कहते हैं.’ झाओ लिजियन ने ये भी कहा ‘हम राजनयिक और सैन्य अफसरों के माध्यम से बातचीत कर रहे हैं. हिं’सक झ’ड़प की घटना एलएसी के चीनी पक्ष में हुई और चीन इसके लिए दोषी नहीं है. हम और हिं’सक झ’ड़प नहीं चाहते हैं. मामले का हल बातचीत के जरिए निकाला जा सकता है.

सोमवार को हुई झ’ड़प के बाद चीन ने पहली बार को आधिकारिक बयान दिया है. इस झड़प में भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए. साथ ही चीन को भी भारी नु’कसान हुआ है. सूत्रों के अनुसार चीन का कमांडिंग ऑफिसर भी इस झ’ड़प में मा’रा गया. हालाँकि चीन ने आधिकारिक आंकड़े जारी नहीं किये. लेकिन LAC पर चीन के एम्बुलेंस, हेलिकॉप्टर की आवाजाही देख अंदाजा लगाया जा सकता है.