चीन ने खदेड़ा अमेरिका का जं’गी जहाज, सबक सिखाने के लिए अमेरिका ने भेज दिए लड़ाकू विमान

पूरी दुनिया इस समय कोरोना महामारी से जूझ रही है. चीन के वुहान शहर से दुनियाभर में फैले इस वायरस ने अपने आगे सभी शक्तिशाली देशों को नतमस्तक कर दिया है. कोई भी देश इस भयंकर बीमारी का इलाज नही बना पा रहा है. हर दिन सैंकड़ों की संख्या में लोग इस बीमारी के चलते अपनी जान दे रहे हैं. कोरोना के चलते सबसे ज्यादा महामारी अमेरिका में फैली है, जिसके चलते दोनों देशों में भी तकरार बढ़ता जा रहा है.

जानकारी के लिए बता दें अमेरिका में इस समय कोरोना के मरीजों की संख्या 10 लाख से पार हो चुकी है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप चीन को कई बार धमकी दे चुके हैं कि चीन इस वायरस के बारे में पूरी सच्चाई दुनिया को बताये. उन्होंने ये भी कहा है कि अगर चीन ने ये वायरस जानबूझकर फैलाया है तो फिर इसका अंजाम उसे भुगतना पड़ेगा. अमेरिका की एजेंसियां इसकी गहन जाँच कर रही है. इस वायरस के चलते चीन और अमेरिका के बीच सैन्य तनाव बढ़ता जा रहा है. इसी बीच एक बड़ी खबर आ रही है.

इस समय की बड़ी खबर ये आ रही है कि चीन की नौसेना ने दावा किया है कि उसने साउथ चाइना सी में अमेरिका के एक जंगी जहाज को अपने इलाके से खदेड़ दिया है. जिस बात का सभी को अंदेशा हो रहा था अब वो शुरू हो गया है. चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी की सदर्न थिएटर कमान के प्रवक्ता सीनियर कर्नल ली हुआमिन ने कहा है कि चीन ने अमेरिका के गाइडेड मिसाइल विध्वंसक यूएसएस बैरी की टोह लेने के लिए समुद्री और हवाई बलों को मोर्चे पर लगाया, जिसके बाद अमेरिका के जंगी जहाज को बाहर खदेड़ दिया.

गौरतलब है कि चीन ने दावा किया है कि अमेरिका जंगी जहाज दक्षिणी चीन सागर में उसके समुद्री क्षेत्र में थे जिसके बाद हमने उसे खदेड़ दिया. वहीँ अमेरिका ने चीन के इस दावे का खंडन किया है. इसी बीच अमेरिका ने बड़ा कदम उठाते हुए अपने बमवर्षक विमानों को भी साउथ चाइना सी की गश्त के लिए रवाना कर दिया गया है. साथ ही अमेरिकी नौसेना ने इस दावे का खंडन करते हुए ये भी कहा है कि टकराव की कोई बात नहीं है. अब स्थिति क्या है जल्द ही सभी के सामने आ जाएगी.