चीन ने पाकिस्तान को सख्त लहजे में मदद से किया इनकार

275



पाकिस्तान का बड़ा दोस्त कहलाने वाले चीन ने भारत की तरफ से हुए एयर स्ट्राइक के बाद अपने हाथ खींच लिए हैं और साफ़ शब्दों में पाकिस्तान को मदद देने के लिए मना कर दिया है और कह दिया है कि दोनों देश शांति बनाए रखे

खबर इसलिए बड़ी है क्यूंकि पाकिस्तान हर बार भारत से युद्ध के लिए चीन का सहारा ताकता था.. मगर यूनाइटेड नेशन सिक्योरिटी काउंसिल के फैसले के बाद जिसमें यह निश्चित किया गया है कि सभी देश भारत को पुलवामा हमले के गुनहगारों और उनके संरक्षकों के खिलाफ होने वाली कार्यवाही में सहयोग करेंगे.. ऐसे में पाकिस्तान को हमेशा मदद करने वाले चीन से भी उन्हें बड़ा धक्का लगा है और उनके लिए गंभीर मुद्दा बन गया है

चाइना ने तो साथ छोड़ा ही छोड़ा OIC यानि आर्गेनाईजेशन ऑफ़ इस्लामिक कोऑपरेशन में भी भारतीय विदेश मंत्री को अब गेस्ट ऑफ़ ऑनर के तौर पर निमंत्रित किया गया है.. और इस फैसले में पाकिस्तान की राय ली ही नहीं गई जबकी पाकिस्तान OIC में अहम मेम्बर है..

अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान अब अकेला पड़ चुका है.. इसके अलावा पाकिस्तान के आर्थिक हालात किसी से छुपे नहीं हैं..30000 ARAB के कर्जे में डूबे होने के कारण पाकिस्तान को कोई देश कर्जा नहीं दे रहा.. देश में सूखे से निपटने के लिए पानी भी नहीं है.. डैम बनाने के लिए पाक प्रधानमंत्री को अपने देश और अन्य देशों में रह रहे पाकिस्तानियों से आर्थिक योगदान मांगना पड़ रहा है

अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान अकेला पड़ चुका है.. आर्थिक स्थिति का वर्णन खुद वहां के PM कर चुके हैं.. अब आते हैं इनकी सैन्य शक्ति पर

साल 2018 में भारत ने 58बिलियन डॉलर्स का बजट अपनी 14 लाख डिफेन्स पर्सन्लस पर खर्च किआ वही पाकिस्तान की बात करें तो उनका 11बिलियन डॉलर्स का बजट अपने 6,53,800 डिफेन्स PERSONNEL पर खर्च किया है, भारत के पास 9 तरह के ऑपरेशनल मिसाइल्स हैं जिनमें 3 अग्नि 3 मिसाइल्स हैं जिनकी 3000 कि.मी से 5000कि.मी की रेंज रहती हैं, पाकिस्तान की बात करें तो इनके पास शाहीन मिसाइल है जिसकी रेंज रहती है मैक्सिमम 2000 किलोमीटर

इंडिया की आर्मी है 12 लाख जिनमें 3565 बैटल टैंक्स हैं पाकिस्तान की आर्मी आधे से भी कम है उनकी आर्मी की संख्या है 5 लाख 60000 2496 बैटल टैंक्स के साथ जो कि हमारी तुलना में बहुत कम हैं

इंडियन एयरफोर्स में 1,27,200 fighter पायलट्स हैं और 814 कॉम्बैट एयरक्राफ्ट

वही पाकिस्तान के पास सिर्फ 425 कॉम्बैट एयरक्राफ्ट हैं

नेवी की बात करें तो भारत के पास 1 एयरक्राफ्ट कार्रिएर, 16 SUBMARINES, 16 डिस्ट्रॉयर, 13 FRIGATES, 106 पट्रोल एंड कोस्टल कॉम्बैट वेसल्स, 75 एयरक्राफ्ट और 76000 नेवी पर्सनल हैं

पाकिस्तान की बात करें तो वहां 9 FRIGATES, 8 SUBMARINES,17 पट्रोल एंड कोस्टल कॉम्बैट वेसल्स और सिर्फ 8 एयर क्राफ्ट्स हैं जो कि भारत की तुलना में बेहद कमज़ोर है

एक देश जो आथिक स्तर पर, सैन्य स्तर पर, अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बहुत पीछे है.. मगर सिर्फ आतंक के सहारे विश्व शक्ति बनना चाहता है, इसी आतंकवाद को पनाह देने का नतीजा है कि आज पाकिस्तान अकेला और कमजोर पड़ा हुआ है, हिंदुस्तान की लड़ाई आतंकवादियों के खिलाफ है.. आतंक के खिलाफ.. पाकिस्तानियों के खिलाफ नहीं.. फिर भी पाकिस्तान को बुरा लगता है तो इसका मतलब तो यही हो सकता है कि या तो ये सारे आतंवादी पाकिस्तानी नागरिक ही हैं जिन्हें पाकिस्तानी सरकार संरक्षण देती है या फिर पाकिस्तानी सरकार ही अपने देश के नागरिकों को आतंकवादी बनाती है और उन्हें तबाही की और लेकर जा रही है