कोरोना वायरस से निपटने के लिए चीन ने मांगी भारत से मदद, चीन के पास नहीं है ये सामान

2140

कोरोना वायरस का खतरा लगातार बढ़ता जा रहा हैं. चीन के अलावा भारत में भी इसके कई मामले सामने आ रहे हैं. और अभी तक चीन में इसके सबसे ज्यादा मरीज पाए गए हैं. वहीं 259 लोगो की कोरोना वायरस की वजह से मौत भी हो गयी हैं. हालांकि इस वायरस के लक्षण सही से पता नहीं चल पाए हैं और न ही वायरस के फैलने की वजह का पता चल पाया हैं. लेकिन कोरोना वायरस जिस तरह से लगातार बढ़ता जा रहा हैं उससे यह चिंता का विषय बन गया हैं और इसके लक्षणों का पता लगाया जा रहा हैं.

कोरोना वायरस के लगातार बढ़ते प्रकोप की वजह से चीन में सामने सबसे बड़ी समस्या मास्क की हैं. दरअसल चीन में कोरोना वायरस की वजह से 12 हजार के करीब लोग इसकी चपटे में हैं और उन सब को संक्रमण से बचाने के लिए चीन को मास्क की जरूरत हैं.  चीन को जिस प्रकार के मास्क की जरूरत हैं उस प्रकार के पास पर्याप्त मात्रा में चीन के पास नहीं हैं .जिसके लिए चीन ने भारत की कम्पनियों से अपील की हैं वो मास्क की सप्लाई को बढ़ा दें ताकि चीन के नागरिकों को इस वायरस से बचाने में मदद हो सके. कोरोना वायरस से बचने के लिए जिस मास्क का उपयोग किया जा रहा हैं. वो N -95 हैं.

आइए जानते हैं आखिर क्यों हैं N -95 मास्क की इतनी मांग और क्यों ये मास्क बाकी मास्कों से ज्यादा बेहतर हैं. बाजार में कई तरह के मास्क मिलते हैं जिसमे सिंगल लेयर , ट्रिपल लेयर, सिक्स लेयर मास्क जैसे मास्क मिलते हैं लेकिन N- 95 मास्क बाकी सभी मास्कों से बेहतर हैं क्यूंकि इस मास्क में वायरस से बचने के लिए 95 प्रतिशत चांस होते हैं जबकि बाकी मास्क में इतने चांस नहीं होते हैं. इस मास्क को केरल में निपाह वायरस के दौरान तैयार किया गया था. जबकि N-99 मास्क में 99 प्रतिशत वायरस से बचने के चांस होते हैं.