वो फिल्में जिनपर सेंसर ने लगाई रोक

510

“ब” से bollywood, “ब” से बवाल… इन दोनों का साथ आज का  नहीं बहुत सालों का है…. वैसे अगर देखा जाए तो हींदी सिनेमा के बदलते दौर के साथ फिल्मों की कहानियाँ, अभिनय और बाकि सभी चीज़ें बदल चुकी है … लोगों को हमेशा से कुछ नया देखने की चाह होती है…. वैसे आज कल बहुत अच्छी फिल्में आ रहीं है.. लेकिन सेंसर बोर्ड से हरी झंडी मिलने के बाद… हालांकि  इनमें से कई ऐसी फ़िल्में है जिन्हें भारत में release करने से रोक कर दिया गया….

तो आइये आज जानते है ऐसी ही उन 4 फिल्मों के बारे में जिनपर एडल्ट कंटेंट के कारण  बैन लगाया गया है… लेकिन फिर भी  इन बोल्ड फिल्मों को आप यूट्यूब पर आसानी से देख सकते हैं…..

तो इस लिस्ट में जो सबसे पहली  फिल्म आती है ‘अनफ्रीडम’… तो इसको लेकर यह विवाद है कि सेंसर बोर्ड ने इस फिल्म पर रोक लगा रखी है… वो इसलिए क्योंकि यह फिल्म दो लड़कियों के संबंधों पर आधारित है… मतलब की अगर आम भाषा में बोला जाए तो लेस्बियन रिलेशनशिप पर आधारित है… और तो और फिल्म में इतने संवेदनशील सीन्स हैं कि इसे परिवार के साथ बैठकर नहीं देखा जा सकता… लेकिन आप इस फिल्म को यूट्यूब पर आसानी से देख सकते हैं…

हालांकि यह फिल्म 2015 में मई के महीने में रिलीज होनी थी… लेकिन सेंसर बोर्ड के आपत्ति के कारण  इसे रिलीज़ नहीं किया गया… इस फिल्म को राज अमित कुमार ने डायरेक्ट किया था… 

फिल्म बैंडिट क्वीन की चर्चा तो आज भी पूरे बॉलीवुड में होती रहती है…इसके चर्चा में रहने के पीछे इसकी कहानी और controvercy है….  यह फिल्म एक ऐसी औरत की कहानी पर आधारित है जिसकी समाज के कई लोगों ने आबरू लूटी अगर कॉमन लैंग्वेज में बोले तो gang rape हुआ उस लड़की के साथ और इस हादसे के बाद वह महिला फूलन देवी के रूप में चंबल घाटी में डाकू बनकर अपना बदला लेने लगी थी…….

इस फिल्म को बैन करने के पीछे यही कारण था कि इस फिल्म में बहुत से एडल्ट  scene थे और साथ साथ उसमे जम कर गलियों से भरे डायलाग भी…

साल 2005 में एक फिल्म आई थी सिंस…. यह  यशराज बैनर तले बनी थी….  फिल्म की कहानी एक जवान लड़की और पादरी के प्रेम प्रसंग पर आधारित थी…. चौंकाने वाली बात यह थी कि यह फिल्म रिलीज तो नहीं हुई लेकिन फिर  भी बड़ी हिट फिल्म साबित हुई…….. और इसका कारण फिल्म में जरूरत से ज्यादा अश्लीलता परोसना था जो दर्शकों के आकर्षण का केंद्र बनी… इन फिल्मों को भले ही सेंसर बोर्ड ने बैन किया हो लेकिन फिर भी यह फिल्म ऑनलाइन कई सारे वेब साइट्स पर मिल जाएगी…….

एक फिल्म थी यूआरएफ प्रोफेसर…. जो की 2001 में release होने वाली थी लेकिन इसमें भी बोल्ड सीन  की वजह से सेंसर बोर्ड से हरी झंडी नहीं मिल पाई…. जिसका मतलब इसे release नहीं किया गया था…. इस फिल्म में फेमस एक्टर शर्मन जोशी के अलावा मनोज पहवा और अनंत माली जैसे एक्टर भी थे…..और इस फिल्म के निर्माता पंकज आडवानी थे….

वैसे तो फिल्मों को बैन उनके कंटेंट के कारण किया जाता है लेकिन कभी कभी कहानियाँ अच्छी भी होती है…. आज कल के इन्टरनेट के दौर में सब कुछ ऑनलाइन easily अवेलेबल है…  तो फिल्मों को बैन करना  सही नहीं है … बैन करने के जगह अगर कुछ क्लिप्स पर कट लगा दिया जाए और उसे release कर दया जाए तो अच्छा होगा.. क्योंकि जिस उद्देश्य से सेंसर बोर्ड इन फिल्मों को रोकती वो तो पूरा हो ही नहीं पाता… लोग तो इन फिल्मों को देख ही लेते है…