CBSE की 10वी और 12वीं की बची हुई परीक्षाओं को लेकर आ रही है ये बुरी खबर !

देश में कोरोना का कहर थम नहीं रहा है. हर दिन 15 हजार मामले सामने आने के बाद अब कोरोना के नए मामलों में और तेजी आई है. जिसके चलते सरकारों की नींद उड़ी हुई है. पिछले 24 घंटे में करीब 17 हजार नए मामले सामने आये हैं जिसके बाद देश में कोरोना के मरीजों की संख्या 4 लाख 70 हजार के पार हो गयी गई है. अगर यही हाल रहा तो आने वाले समय में भारत के लिए काफी मुश्किल हो सकती है. इसी बीच सीबीएसई के 10वीं और 12वीं की परीक्षा को लेकर बड़ी खबर आ रही है.

जानकारी के लिए बता दें सीबीएसई ने बची हुई परीक्षाओं के एग्जाम 1 से 15 जुलाई के बीच करवाने का आदेश दिया था, जिसके बाद छात्रों के अभिभावकों ने कोरोना के संकट को देखते हुए सीबीएसई की परीक्षाओं को रद्द करने के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. 10वीं और 12वीं की बची हुई परीक्षाओं के एग्जाम को कराने की याचिका पर सुनवाई चल रही है. महाराष्ट्र, ओडिशा और दिल्ली ने बची हुई परीक्षा कराने के लिए असमर्थता का हलफनामा दिया है. जिसके चलते बड़ा फैसला लिया गया है.

जिन छात्र छात्राओं को 1-15 जुलाई के बीच होने वाली परीक्षाओं का इंतजार था उनके लिए अब बुरी खबर आ रही है. 1 से 15 जुलाई के बीच होने वाली सीबीएसई की बची हुई परीक्षाओं को रद्द कर दिया गया है. जिसमें से कक्षा 10वीं की परीक्षाओं को पूरी तरह से कैंसिल करने का फैसला लिया गया है वहीँ 12वीं की परीक्षा अब वैकल्पिक होंगी.

गौरतलब है कि इस साल सीबीएसई की बची हुई परीक्षा में देशभर से 31 लाख से अधिक छात्रों को शामिल होना था. एक ओर सीबीएसई की बची हुई परीक्षाओं को कैंसिल कर दिया गया है जिसका बुरा असर अब केंद्रीय विश्वविद्यालयों की प्रवेश प्रक्रिया और जेईई मेन और नीट 2020 सहित राष्ट्रीय प्रवेश परीक्षा पर भी पड़ने वाला है. साथ ही छात्र छात्राओं को इस वजह से काफी मुश्किल का सामना करना पड़ सकता है.