पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह से पूछा गया कि क्या 2022 में कांग्रेस के साथ आएंगे प्रशांत किशोर? तो मिला ये जवाब

देश में एक तरफ कोरोना का कहर थम नही रहा है वहीँ दूसरी ओर राजनीतिक गलियारों में भी हलचल मची हुई है. मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार गिरने के बाद उपचुनाव को लेकर दोनों पार्टियों ने कमर कस ली है. पूर्व सीएम कमलनाथ ने इस चुनाव को जीतने के लिए कई पूर्व मंत्री को मैदान में प्रचार-प्रसार के लिए उतार दिया है तो दूसरी ओर कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल हुए सिंधिया और उनके समर्थक भी प्रचार में लग गये हैं.

जानकारी के लिए बता दें मध्यप्रदेश में होने वाले उपचुनाव को लेकर खबर आई थी कि प्रशांत किशोर इस चुनाव में कांग्रेस का साथ देकर रणनीति तय कर सकते हैं. जिसके बाद प्रशांत किशोर ने इन खबरों को ख़ारिज करते हुए कहा एमपी में होने वाले इन चुनावों में वो किसी तरह के काम के लिए तैयारी नहीं की है. वहीँ दूसरी ओर पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से भी प्रशांत किशोर को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने बड़ी बात कही.

दरअसल पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह से पूछा गया कि पंजाब में 2022 में होने वाले चुनावों में क्या प्रशांत किशोर कांग्रेस के साथ आयेंगे? तो इसके जवाब में उन्होंने कहा कि प्रशांत किशोर ने यह बात कही कि उन्हें साथ आने में और मदद करने में काफी ख़ुशी होगी. मैंने इस मामले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी से भी चर्चा की. तो उन्होंने 2022 पंजाब विधानसभा में प्रशांत किशोर को साथ रखने का निर्णय मुझपर छोड़ दिया है.

गौरतलब है कि प्रशांत किशोर को राजनीति का मशहूर रणनीतिकार कहा जाता है. वहीँ पंजाब की राजनीति में प्रशांत किशोर को लेकर कयासों का बाजार तेजी से गर्म हो गया था. पंजाब में अटकलें चल रही हैं कि प्रशांत किशोर पंजाब सरकार के पूर्व मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के संपर्क में हैं और उन्हें आम आदमी पार्टी में लाने के लिए प्रयास कर रहे हैं. खबरें ये तक आ रही है कि कोरोना संक्रमण खत्म होने के बाद अरविंद केजरीवाल और नवजोत सिंह सिद्धू मुलाकात कर सकते हैं. ऐसे में प्रशांत किशोर सिद्धू को आप पार्टी में ले जाने में कामयाब हो जाते हैं तो ये कांग्रेस को बड़ा झटका हो सकता है क्योंकि इससे पहले भी वो एमपी में होने वाले चुनाव में साथ आने की बात से साफ़ इंकार कर चुके हैं.