दिल्ली के ओसामा बिन लादेन को नही पता कि वो लोगों को पत्थर क्यों मार रहा है

262

दिल्ली समेत देश के कुछ हिस्सों में नागरिकता संशोधन कानून को लेकर प्रदर्शन हो रहा है. प्रदर्शन में बड़ी मात्रा में युवा शामिल हो रहे हैं जिसमें से ज्यादातर छात्र है. इनका प्रदर्शन उग्र भी हुआ, आगजनी भी हुई और तोड़फोड़ भी! हालाँकि सवाल ये है कि क्याप्रदर्शन कर रहे लोगों को पता है कि वो आखिर प्रदर्शन कर क्यों रहे है ? उग्र प्रदर्शन में शामिल होकर क्यों खुद को नुकसान पहुँचाने पर तुले हुए हैं.

दरअसल दिल्ली में हो रहे प्रदर्शन में कई लोग ऐसे भी शामिल हुए है जिनको ये नही पता है कि आखिर प्रदर्शन हो क्यों रहा है? विरोध किस लिए कर रहे हैं? विरोध किसका हो रहा है? और CAA का मतलब और फुलफॉर्म क्या है? इन्हें ये बात नही पता है कि ये कानून क्या कहता है? इससे जुड़ा एक वीडियो सोशल मीडिया पर सामने आया है. जिसमे एक पत्रकार प्रदर्शन में शामिल एक लड़के से कुछ सवाल पूछ रहा है. जवाब क्या मिल रहा है ये भी जानना आपके लिए जरूरी है.

सवाल पूछा गया कि आप भी प्रोटेस्ट में शामिल थे. तो जवाब मिला कि मैं कहीं जा रहा था और देखा की भीड़ इकठ्ठा थी तो मैं भी शामिल हो गया, फिर रिपोर्टर ने पूछा, अब तो आपको तो पता ही हो गया होगा की ये भीड़ यहाँ क्यों इकठ्ठा हुई है, इस सवाल का प्रदर्शनकारी ओसामा बिन लादेन के पास कोई जवाब नहीं था. सवाल ये भी है कि आखिर इस ओसामा बिन लादेन के जैसे कितने प्रदर्शनकारी शामिल हुए, जिन्हें प्रदर्शन के बारे में कोई जानकारी नही है.

दरअसल ऐसा कहा जा रहा है कि ऐसा भ्रम फैलाया गया है कि मुसलामनों को इस बिल के बाद रिफ्यूजी कैम्प में डाल दिया जायेगा. इसलिए लोग प्रदर्शन में बड़ी मात्रा में शामिल हो गये. उग्र प्रदर्शन में बड़ी मात्रा में बवाल हुआ, आगजनी हुई, तोड़फोड़ हुई. इसके बाद जब पुलिस ने लाठीचार्ज किया तो बवाल और बढ़ गया. सभी को चाहिय कि ये कानून आखिर कहता क्या है? उससे हम पर फर्क क्या पड़ने वाला है? या आप नही समझ पा रहे है तो आप किसी विश्वसनीय व्यक्ति से इसके बारे में डिटेल में जानकारी लें.