परिवार के 23 सदस्यों के साथ लॉकडाउन तोड़ कर छुट्टी मनाने जा रहा था ये अरबपति, पड़ गए लेने के देने

10684

देश में कोरोना का कहर है. पूरे देश में लॉकडाउन लागू है. सरकार सबसे घरों में रहने की अपील कर रही है. लेकिन एक अरबपति को घर में बैठे बठे मन नहीं लगा तो अपने परिवार के 23 सदस्यों के साथ 5 गाड़ियों का काफिला ले कर लॉकडाउन तोड़ छुट्टियाँ मनाने निकल पड़े. लेकिन पुलिस के हत्थे चढ़ गए. मामला है महाराष्ट्र का.

मुंबई में एक बड़ी कंपनी डीएफएचएल (DFHL)के प्रमोटर कपिल और धीरज वधावन अपने परिवार के 23 सदस्यों के साथ 5 गाड़ियों के काफिले में घूमने के लिए खंडाला से महाबलेश्वर निकल पड़े. उनके पास प्रमुख सचिव गृह अमिताभ गुप्ता का अनुमति वाला पत्र भी था. खंडाला से महाबलेश्वर की दूरी लगभग 185 किलोमीटर है. वो अपने काफिले के साथ पंचगनी तक पहुँच गए. लेकिन पंचगनी में उन्हें हिरासत में ले लिया गया. लॉकडाउन तोड़ने के कारण फैमिली मेंबर्स समेत वधावन पर सतारा पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज कर ली गई है. उन्हें घूमने के लिए अनुमति पात्र जारी करने वाले  प्रमुख सचिव गृह अमिताभ गुप्ता को कंपलसरी लीव पर भेज दिया गया और उनके खिलाफ विभागीय जांच बैठा दी गई. जांच रिपोर्ट आने के बाद प्रमुख सचिव पर सख्त कार्रवाई की जाएगी.

कोरोना वायरस के कारण पुणे और सतारा दोनों जिलों को सील किया जा चूका है इसके बावजूद वधावन परिवार के सदस्यों समेत कई लोग बुधवार शाम अपनी कारों से खंडाला से महाबलेश्वर जा रहे थे. सभी 23 आरोपियों के खिलाफ IPC की धारा 188 के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है. कपिल और धीरज वधावन वही बिजनेसमैन हैं जो यस बैंक और डीएफएचएल धोखाधड़ी मामलों में आरोपी हैं.